जानिये, फिल्म के किस डायलाग से डरी हुई है भाजपा, सवाल दवा-दारू का है

लाइव सिटीज डेस्क : तमिल फिल्म ‘मर्सेल’ को लेकर उठा विवाद अभी तक शांत नहीं हो सका है. ताजा ख़बरों के अनुसार फिल्म के डायरेक्टर-प्रोड्यूसर अब वो दृश्य हटाने को राजी हो गए हैं जिनपर भाजपा ने आपत्ति की थी. भाजपा को फिल्म के एक दृश्य में 1 जुलाई से लागू हुए नए कर कानून GST के बारे में की गई टिप्पणी पसंद नहीं आई थी. पार्टी ने इस दृश्य को फिल्म से हटाये जाने की मांग की थी.

हालांकि फिल्म के रिलीज़ होने के बाद जब इस दृश्य को लेकर विवाद शुरू हुआ तो फिल्म के उन दृश्यों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए. फेसबुक-ट्विटर से लेकर यूट्यूब और व्हाट्सएप ग्रुप्स में इस विडियो को जमकर शेयर किया गया है. इस वीडियो के डायलॉग्स को लेकर मचे बवाल के बीच आप फिर से यह जान लीजिये कि आखिरकार कहा क्या गया है –

फिल्म के इस दृश्य में एक्टर विजय कहते हैं – ‘सिंगापुर में 7% जीएसटी लगाकर भी हेल्थ सर्विस फ्री है और हमारे देश में 28 फीसदी जीएसटी लगाकर भी फ्री नही है. हम दवा पर 12 % जीएसटी लगाते हैं, लेकिन शराब को जीएसटी से बाहर रखते हैं. एक अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से बहुत सारे बच्चों की जान गयी. जानते हैं क्यों, क्योंकि ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी को देने के लिए पैसे नहीं थे. एक अस्पताल में आपरेशन के दौरान बिजली चली गयी और 4 मरीज मर गए. लोग सरकारी अस्पताल जाने से डरते हैं, और यही डर प्राइवेट अस्पतालों की पूंजी है. वे इसी डर पर पनपते हैं’.

नवभारत टाइम्स दिल्ली के सीनियर जर्नलिस्ट नरेन्द्र नाथ फिल्म के इस डायलाग पर अपनी टिप्पणी करते हुए लिखते हैं – अगर इस डायलाग से सत्ता पार्टी को परेशानी होने लगे तो मान लीजिये कि अंदर ‘डर’ पैदा होने लगा है.