नीतीश कुमार को समझना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है, काम चल रहा अटकलों से

लाइव सिटीज (अभिषेक आनंद) : बिहार के मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार को समझना सच में मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है . उनके मन के भीतर क्‍या चल रहा है और फैसला कैसा होगा, आखिर तक कोई नहीं जानता . थोड़ा बहुत कोई समझता है तो सिर्फ दो लोग हैं . सांसद आरसीपी सिंह और कैबिनेट मंत्री ललन सिंह . लेकिन ये दोनों भी इतने गहरे हैं कि आप कोई संकेत हासिल कर पूर्वानुमान नहीं कर सकते .

पूरे बिहार की आईएएस-आईपीएस लॉबी बेकरारी के दिनों में जी रही है . दरअसल, अगले माह फरवरी 2018 में बिहार के चीफ सेक्रेट्री अंजनी कुमार सिंह और डीजीपी पी के ठाकुर को रिटायर हो जाना है . स्‍टेट में चीफ सेक्रेट्री और डीजीपी के पद ही ब्‍यूरोक्रेसी में सबसे पावरफुल होते हैं . ऐसे में, सवाल उठना जायज है कि बिहार का अगला चीफ सेक्रेट्री और डीजीपी कौन . रेस में कई लोग कई कारणों से है, पर गारंटी के साथ किसी नाम पर लोग शर्त नहीं लगा सकते . कारण कि नीतीश कुमार आखिर में क्‍या फैसला कर लेंगे, कौन जाने .

पीके ठाकुर, बिहार DGP (फाइल फोटो)

संभावनाओं पर बात करने वाले लोग सिर्फ इतना कहते हैं कि इस बार सोशल इंजीनियरिंग का ख्‍याल रखा जाएगा . कारण कि 2019-2020 के चुनाव को नियुक्तियों के वक्‍त ध्‍यान में रखा जाएगा . बिहार में जात का महत्‍व नहीं, यह कह देना बेमानी है . वर्तमान में चीफ सेक्रेट्री और डीजीपी दोनों फॉरवर्ड हैं . पर, सोशल इंजीनियरिंग की बात करने वाले कहते हैं कि नई नियुक्ति में फॉरवर्ड और बैकवर्ड दोनों फेस दिखेंगे .

चीफ सेक्रेट्री अंजनी कुमार सिंह (फाइल फोटो)

चीफ सेक्रेट्री के पोस्‍ट के लिए कहा जा रहा है कि मुख्‍य मंत्री नीतीश कुमार की पसंद में सबसे टॉप पर आईएएस सी के मिश्रा और दीपक कुमार हैं . दोनों अभी सेंट्रल डेपुटेशन पर हैं . सी के मिश्रा को केन्‍द्र सरकार में कोई बड़ी पोस्टिंग मिलने की खबर चल रही है . इस कारण वे बिहार लौटने के बारे में अंतिम निर्णय नहीं कर पा रहे हैं . ठीक इसी तरीके से एनएचएआई से दीपक कुमार को बिहार लौटने का बहुत मन नहीं हो रहा है . ऐसे में, बिहार के जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह का नाम सबसे आगे चल रहा है . सोशल इंजीनियरिंग में भी वे फिट बैठते हैं . पर, ऐसा होने के लिए जरुरी यह कह दिया जा रहा है कि तब डीजीपी कोई फॉरवर्ड आईपीएस ऑफिसर होगा . जम्मू में मुफ्ती अवार्ड से सम्मानित किए गए CM नीतीश कुमार

nitish-kumar33
सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

पी के ठाकुर के बाद नये डीजीपी के लिए संभावित नामों में सुनील कुमार, राजेश रंजन, गुप्‍तेश्‍वर पांडेय और ए के वर्मा के नाम तेजी से चल रहे हैं . राजेश रंजन और ए के वर्मा सेंट्रल डेपुटेशन पर हैं . इधर के दिनों में सहयोगी पार्टी भाजपा की ओर से के एस द्विेदी के लिए भी लॉबिंग चल रही है . कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कुमार राजेश चंद्रा का जिक्र भी सामने आया . पर आखिरी में बात फिर से वहीं आकर अटक जाती है कि जब तक नीतीश कुमार नियुक्तियों का एलान न कर दें, तब तक उनके मन को पढ़ पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है . IAS दीपक आनंद पर कसा शिकंजा, सीतामढ़ी से कटिहार तक रेड, मिली करोड़ों की संपत्ति 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*