लोजपा की नई चाल से एनडीए में बेचैनी, जदयू को खामोश,चिराग का नया धमाका, मांझी को लगी मिर्ची

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार विधानसभ चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों के बीच सियासी तूफान थम नहीं रहा है. जदयू और लोजपा में 36 का आंकड़ा और अधिक गहराता जा रहा है. इसी बीच राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने नया धमाका कर दिया है. बिहार के 30 सालों के शासन पर ही सवाल खड़ा कर दिये हैं. लोजपा की नई चाल से एनडीए में तो बेचैनी है ही, हम के मुखिया जीतनराम मांझी को मिर्ची लग गई है. उन्होंने चिराग के साथ ही उनके पिता रामविलास पासवान के कार्यों पर ही सवाल खड़ा कर दिया है. 

दरअसल, लोजपा ने शुक्रवार को देशभर के न्यूज पेपर में विज्ञापन देकर धमाका कर दिया है. लोजपा ने कहा है- ‘आओ बनाएं, नया बिहार युवा बिहार, चलो चलें युवा बिहारी के साथ.’ इतना ही नहीं, उन्होंने एक स्लोगन से नीतीश सरकार और लालू-राबड़ी सरकार पर भी तंज कसा है. स्लोगन में लिखा गया है- ‘वो लड़ रहे हैं हम पर राज करने के लिए, और हम लड़ रहे हैं बिहार पर नाज करने के लिए… धर्म न जात, करे सबकी बात…’ खास बात कि बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट को भी चिराग ने नहीं छोड़ा है.



बता दें कि चिराग पासवान लॉकडाउन 1 के पहले से ही जनसरोकार का मुद्दा, युवाओं की प्रॉब्लम, स्वास्थ्य व शिक्षा से जुड़े मामलों को लेकर नीतीश सरकार को घेरते आ रहे हैं. बीच में मामला इतना बढ़ गया कि जदयू और लोजपा में कालिदास और सूरदास तक मामला पहुंच गया. बताया जाता है कि इसके बाद चिराग ने चुप्पी साध ली है, लेकिन अब उनके स्लोगन बोलने लगे हैं.  

कटुता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जिस दिन जदयू ने वर्चुअल रैली का कार्यक्रम बनाया है, उसी दिन यानी सात सितंबर को लोजपा ने भी दिल्ली में अपने संसदीय दल की बैठक बुलाई है. सियासी गलियारों में हो रही चर्चा के अनुसार, जदयू के साथ लोजपा के बिगड़ते संबंधों के संकेत का असर बैठक में दिखेगा. सूत्रों की मानें तो संभव है कि लोजपा कड़े फैसले भी ले सकती है. ऐसे में आगे की रणनीति क्या बनेगी, इस पर विचार होगा. कहा तो यह भी जा रहा है कि जदयू के खिलाफ कोई भी बड़ा फैसला लिया जा सकता है. हालांकि इस मुद्दे पर जदयू तो चुप है, लेकिन दो दिन पहले एनडीए में शामिल हुए हम के मुखिया जीतनराम मांझी को मिर्ची लग गई है. उन्होंने रामविलास के कार्यों पर ही सवाल दाग दिए हैं. गठबंधन धर्म की नसीहत भी दी है.