पैकेट पर प्रिंटेड MRP से किया छेड़छाड़ तो होगी 2 साल की सजा

लाइव सिटीज डेस्क : बड़े-बड़े मॉल व बाजारों में कई उत्पादों के दाम के ऊपर मॉल अपना लेबल लगा कर उत्पाद बेच देते हैं. लेकिन अब ऐसा करना दंडनीय अपराध माना जाएगा. पैकेट पर लिखे दाम और समाप्ति की तारीख के साथ छेड़छाड़ करने पर दो साल तक के लिए जेल भी जाना पड़ सकता है. साथ ही 5 लाख रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है. उपभोक्ता अदालत शिकायतकर्ता को मुआवजा देने का भी आदेश दे सकती है. 

जल्द ही उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम विधेयक में संशोधन किया जा सकता है. इसके लिए इस प्रावधान का प्रस्ताव रखा गया है. इसे मानसून सत्र में पेश होने की संभावना है. उपभोक्ता मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, सरकार के इस फैसले से उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी.

अधिकारी ने कहा कि किसी पैकेट पर अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी), समाप्ति की तिथि (एक्सपायरी डेट) पर स्टीकर लगा या उसे काटकर कोई और दाम व तारीख लिखने या किसी अन्य बदलाव करने पर पाबंदी है. पर कानून में बहुत स्पष्टता नहीं है. संशोधन विधेयक में इससे छेड़छाड़ पर कार्रवाई का प्रावधान है. 

सिर्फ आयातित पैकेटबंद सामान पर एमआरपी का स्टीकर लगाने की  इजाजत है। पर इस स्टीकर में आयात करने वाली कंपनी को पूरा ब्योरा देना होगा. इसमें पैकेट बंद सामान कब आयात किया गया था व किस कंपनी के जरिए आयात किया गया आदि जानकारी भी स्टीकर में होनी चाहिए. ताकि, उपभोक्ता को कोई दिक्कत नहीं हो.

प्रस्तावित संशोधन में यह भी कहा गया है कि यदि किसी उत्पाद की कीमत बढ़ जाती है तो उसपर नए दाम का स्टीकर नहीं लगाया जा सकता है. इसकी जगह पैकेट ही बदलने होंगे.

यह भी पढ़ें-  अब रेस्त्रां को मेनू में लिखना होगा, प्लेट में पनीर-चिकेन कितना होगा