शिक्षा विभाग का बड़ा एलान, जल्द होगी 1 लाख 38 हजार शिक्षकों की बहाली

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के शिक्षा विभाग ने एक बड़ा एलान किया है. बिहार में प्राइमरी और सेकेंडरी शिक्षा को दुरुस्त करने में नीतीश सरकार अपने पहले कार्यकाल से लगी हुई है. नियोजित शिक्षकों की लगातार बहाली कर शिक्षकों के खाली पदों को भरा जा रहा है. राज्य सरकार ने बाकी बचे पदों के लिए आज बड़ा ऐलान किया है. अब 1 लाख प्राइमरी शिक्षकों का और 38 हजार सेकेंडरी शिक्षकों की भर्ती जल्द कर ली जाएगी. शिक्षक अभ्यर्थियों के सामने सरकार झुक गई. उसके बाद ही यह बड़ा फैसला लिया गया.

साथ ही यह भी कहा गया है कि साल 2012 और 2017 में आयोजित TET परीक्षा में 1 लाख 11 हजार 484 अभ्यर्थियों ने बाजी मारी थी. वहीं 2012 में 65984 पास हुए अभ्यर्थियों की वैलिडिटी समाप्त हो रही थी जिसे दो साल के लिए बढ़ाने का निर्णय लिया गया है. अब इनकी हितों को देखते हुए TET की वैलिडिटी को आगे 2 साल बढ़ाने का निर्णय लिया गया है.अब ये लोग शिक्षक नियुक्ति के उपयुक्त हो गए है. शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने बुधवार को इस फैसले की जानकारी दी.

आपको बता दें कि बिहार में शिक्षक बहाली न होने से नाराज TET पास अभ्यर्थी अब सड़क पर आन्दोलन के लिए उतर गए हैं. सोमवार को हजारों की संख्या में प्रशिक्षित बीएड CTET/TET अभ्यर्थियों ने गर्दनीबाग में सरकार के खिलाफ आन्दोलन किया और जमकर नारेबाजी की. अभ्यर्थियों ने विधानसभा के घेराव को लेकर पैदल मार्च किया जिसके बाद पुलिस और अभ्यर्थियों में झड़प हुई जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया जिसमे कई अभ्यर्थी घायल हो गए. इस घटना से छात्रों में आक्रोश है और वो जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं.

दरअसल, बिहार में पिछली कई वर्षों से शिक्षकों की बहाली नहीं होने से CTET/TET अभ्यर्थियों ने सोमवार को पटना के गर्दनीबाग़ में हजारों की संख्या में पहुंचकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. सरकार से शिक्षक बहाली शुरू करने की मांग पर अड़े छात्रों ने विधानसभा घेराव के लिए पैदल मार्च किया. इस दौरान सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की और बल का प्रयोग किया. हालात बिगड़ने पर पुलिस ने अभ्यर्थियों पर लाठी भी चटकाई जिससे कई छात्र घायल हो गए, उन्हें इलाज के लिए गर्दनीबाग के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

आपको बता दें कि बिहार में लम्बे समय शिक्षक बहाली नहीं होने से नाराज CTET/TET में सफल अभ्यर्थियों ने पिछले दिनों समस्तीपुर में भिक्षाटन करके विरोध प्रदर्शन किया था. सूबे के हजारों शिक्षक अभ्यर्थियों ने सोमवार को नियुक्ति की मांग को लेकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया. इस दौरान छात्रों और सुरक्षाकर्मियों में झड़प भी हुई. नियुक्ति की मांग पर अड़े छात्रों ने विधानसभा घेरने के लिए पैदल मार्च किया. इस दौरान सुरक्षाकर्मियों ने अभ्यार्थियों पर लाठी बरसाई जिसमे कई छात्र घायल हो गए है.सुरक्षाकर्मियों द्वारा किए गए लाठीचार्ज में कई महिला अभ्यर्थियों को भी गंभीर चोटें आई है.

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विभाग के काम-काज की समीक्षा के साथ- साथ और कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए थे. बैठक में शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, शिक्षा विभाग अपर मुख्य सचिव आरके महाजन, बीएसईबी अध्यक्ष आनंद किशोर भी मौजूद थे. मीटिंग के बाद मीडिया को जानकारी दी गई कि बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अगले वर्ष एक अप्रैल से सभी पंचायतों में उच्च माध्यमिक विद्यालयों में वर्ग 9 तक की पढ़ाई होगी. आनंद किशोर ने कहा कि हाई स्कूलों में 32 हजार पद खाली हैं जिनके लिए नियोजित शिक्षक बहाल होंगे जो 60 साल तक काम करेंगे. इसी के साथ कम्प्यूटर शिक्षकों की सरकार बहाली करेगी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*