अब फटाफट होगी शिक्षकों की भर्ती, सरकार ने ले लिया है फैसला

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में टीचिंग क्षेत्र में करियर बनाने के लिए खुशखबरी है. अब TET परीक्षा के लिए फिर से 6 साल जैसा लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा. अब हर साल शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) होगी। शिक्षा विभाग ने इस संबंध में बिहार बोर्ड को तैयारी करने का निर्देश दिया है.

शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए हर साल टीईटी होगी. मंत्री ने दो टूक कहा- शिक्षा की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं किया जाएगा. शिक्षक पात्रता परीक्षा में अनुत्तीर्ण रहे अभ्यर्थियों को ग्रेस देने के सवाल पर कहा- इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया गया है.

शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा से पूछा गया कि शिक्षकों की कमी कैसे दूर होगी? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि – हर साल टीईटी का आयोजन होगा तो शिक्षकों की गुणवत्तापूर्ण शिक्षकों की बहाली करने में परेशानी होगी.

2011 के बाद 6 राज्यों में पहली बार 2011 में शिक्षक पात्रता परीक्षा ली गई थी। इसमें प्रशिक्षित और अप्रशिक्षित दोनों कोटि के अभ्यर्थियों को मौका दिया गया था. इस कारण प्रारंभिक शिक्षक पात्रता परीक्षा में 25 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. तब 1.47 लाख अभ्यर्थियों ने उत्तीर्णता हासिल की थी. दूसरी टीईटी 2017 में 2.43 लाख प्रशिक्षित अभ्यर्थियों ने टीईटी दी थी, इसमें 37 हजार ही पास हो सके.  अब सरकार के इस निर्णय से बिहार में शिक्षकों की कमी दूर हो पाएगी . 6 साल के इंतजार के बाद अब हर साल TET परीक्षा के निर्णय को खूब सराहा जा रहा है.

Patna में चलिए Sangeeta, यहां TV के साथ TV फ्री मिल रहा है अभी

मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू

चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)