राजद में भगदड़ होगी, रघुवंश-सिद्दीक़ी भी राज्य सभा चुनाव तक चुप हैं

लाइव सिटीज डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद चारा घोटाला मामले में जेल में बंद हैं, लेकिन बाहर, राजद में अंदरूनी कलह की ख़बरें बहुत तेजी से सामने आ रही हैं. राजद के पूर्व प्रवक्ता अशोक सिन्हा ने पार्टी को अलविदा कह दिया है. राजद को छोड़ते ही वे पार्टी के अंदर चल रहे घमासान को सोशल मीडिया के सामने रख दिया है. वे पत्रकार शशिभूषण के साथ फेसबुक लाइव पर थे. वहां उन्होंने महागठबंधन टूटने से लेकर राजद के अंदर अब तक क्या चल रहा है, सब पर खुल कर बातें कीं. आपको यहां जानकारी दे दें कि महागठबंधन के समय वे राजद के प्रदेश प्रवक्ता थे. उन्हें जदयू और राजद के बीच चल रहे कलह के दौरान पार्टी के प्रवक्ता पद से हटा दिया गया था. जिसके बाद वे 7 महीने तक पार्टी में चुपचाप बने रहे थे. लेकिन आज पार्टी छोड़ते ही उनका दर्द छलक कर बाहर निकल आया. अशोक सिन्हा ने यह भी दावा किया कि लालू परिवार के साथ सिर्फ 30-35 विधायक ही हैं. साथ ही तेजस्वी यादव के नेतृत्व पर खूब हमला बोला.

अशोक सिन्हा ने कहा कि आरजेडी में रहते उन्हें घुटन हो रही थी. सात महीने इंतज़ार के बाद मैंने चुप्पी तोड़ी. अशोक सिन्हा ने आरोप किया कि आरजेडी केवल एक परिवार की पार्टी बनकर रह गई है. लालू परिवार के ग़लत कामों का आरजेडी के दूसरे नेता बचाव कर रहे हैं. अशोक सिन्हा ने कहा कि प्रदेश प्रवक्ता पद से हटाने का कारण आज तक मुझे नहीं बताया गया.

lalu-yadav-tejashwi-rabri-after-raid-pti_650x400_71499592346
लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

अशोक सिन्हा बातचीत के दौरान राजद के कई बड़े नेताओं के बारे में बोलते हैं. अशोक सिन्हा ने कहा कि रघुवंश प्रसाद, सिद्दकी और जगदानंद सिंह सरीखे बड़े नेता भी घुटन में हैं. सभी को राज्यसभा और विधान परिषद चुनाव का इंतज़ार है. उसके बाद आरजेडी में भगदड़ मच जाएगी. अशोक सिन्हा ने तेजस्वी को नौसिखिया बताया. उन्होंने कहा कि तेजस्वी जैसे नौसिखिए का नेतृत्व बड़े नेताओं को कबूल नहीं है. लालू परिवार ने पार्टी को टूट से बचाने के लिए संघर्ष का नारा दिया. शिवानंद का नीतीश पर तंज :तेजस्वी यादव इतने अज्ञानी हैं तो उनसे इतना हाय-तौबा क्यों 

विधायक टूटें न इसलिए जल्द चुनाव की अफवाह उड़ाई. अशोक सिन्हा ने आगे कहा कि आरजेडी के 80 में से केवल 30 से 35 विधायक ही लालू परिवार के साथ हैं. बाक़ी सभी बेचैनी में हैं. लालू परिवार केवल उकसावे की राजनीति जानता है.एक जाति विशेष के खिलाफ़ यादवों को प्रवोक किया जाता है.सिन्हा ने कहा कि लालू परिवार को अपनी संपत्ति पर सफ़ाई देनी चाहिए. पब्लिक डोमेन में सारी बात आनी चाहिए थी.

राजद के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता अशोक सिन्हा, साथ में पत्रकार शशि भूषण

अशोक सिन्हा ने शिवानंद तिवारी पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि शिवानंद तिवारी ने लालू परिवार की नाशलीला लिखी. लालू आवास में बैठ उन्हें अराजक बताते हैं. शिवानंद जी कहते हैं अराजक होने के बावजूद लालू के साथ चलना मजबूरी है. फिर अशोक सिन्हा बातचीत के दौरान तेजस्वी यादव को सलाह भी देते हैं. सिन्हा कहते हैं कि न्याय यात्रा पर निकलने से पहले तेजस्वी यादव अपनी संपत्ति का पूरा हिसाब लेकर निकले.

अशोक सिन्हा ने इस दौरान लालू प्रसाद की तारीफ भी की. उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद ने संघर्ष से सफ़लता पाई.लालू जी को हमने पोस्टर लगाते और लाठी खाते देखा है. लालू प्रसाद गाड़ी को धक्का भी देते थे. लेकिन तेजस्वी ने एसी गाड़ी में बैठकर राजनीति की है. तेजस्वी राजा से पैदा हुए राजकुमार की तरह हैं. उन्होंने कहा कि तेजस्वी बताएं उन्होंने क्या संघर्ष किया है?सियासत : राजद में शामिल होंगे मांझी- कुशवाहा !, जवाब मिला- बकवास कर रहे हैं रघुवंश 
तेजस्वी के साथ लालू प्रसाद के कैडर का जाना नामुमकिन है. राजनीति गुड्डे- गुड़ियों का खेल नहीं है. मुझे तेजस्वी यादव का नेतृत्व कबूल नहीं है. मैं बिहार की जनता से खेद जताता हूँ. उन्होंने कहा कि ग़लत होने के बावजूद लालू प्रसाद को डिफेंड करता रहा. आज आरजेडी के सभी दायित्वों और प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफ़ा दे रहा हूँ.

About Ranjeet Jha 2354 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*