पिता नहीं चुका सके कर्ज तो नाबालिग बेटी को पड़ोसी ने बनाया बंधक, पैरों में डाल दी बेड़ियां

आरा/बिहिया. (विशाल सिंह/जितेंद्र कुमार) : बिहार के भोजपुर से एक शर्मनाक मामला सामने आया। इस घटना ने सभी को झकझोर दिया। पिता द्वारा कर्ज के पैसे नहीं चुकाने पर नाबालिग बेटी को करीब 3 महीने तक घर में बंधक बनाकर पैरों में बेड़ी व जंजीर डाल कर रखा जाता था। किसी तरह गुरुवार को पीड़ित किशोरी जान बचाकर भागी और ग्रामीणों के सहयोग से थाने पहुंची। जंजीर और बेड़ी से जकड़ी हुई युवती ने थाने में आपबीती सुनाई और जान बचाने की गुहार लगाई। तब थाने में पुलिस ने पैरों में जकड़ी जंजीर व बेड़ी कटवाया।

घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि भोजपुर जिले के बिहिया थाना क्षेत्र के बिहिया नगर स्थित टिपुरा कॉलोनी निवासी लम्बु खरवार ने अपने पड़ोसी लालबाबु खरवार के पुत्र केपी खरवार से कर्ज के रूप में पैसे लिये थे। तय समय में पैसे नहीं चुकाये जाने पर केपी खरवार ने लम्बु खरवार की 14 वर्षीय नाबालिग पुत्री अंजली कुमारी को लगभग तीन माह पूर्व बंधक बना लिया। तीन माह तक पैर में लोहे का जंजीर व बेड़ी डालकर बंधक बनाये रखा। पुत्री को बंधक बनाये जाने के बाद पीड़िता के माता-पिता व उसका छोटा भाई दहशत में गांव से हीं फरार हो गये। गुरूवार को देनदार के चंगुल से फरार होकर ग्रामीणों के सहयोग से थाने पहुंची पीड़ित किशोरी ने पुलिस के सामने कई बातें बताई।

पीड़ित किशोरी ने बताया कि केपी खरवार ने अपने घर में उसके पैरों को बेड़ी और जंजीर से जकड़ दिया था ताकि वह कहीं भाग न सके। उसे रात को मात्र एक बार खाना दिया जाता था। लगभग प्रतिदिन उससे मारपीट करते हुए अक्सर हीं उसके शरीर पर गर्म पानी या आग की अंगीठी फेंक दिया जाता था। इतने पर भी उन्हें दया नहीं आयी तो केपी खरवार की पत्नी आरती खरवार द्वारा पांच बार बाल काटकर काफी छोटे-छोटे कर दिये गये। और नहीं तो भागने पर धमकी भी दी जाती थी कि तुम्हारे छोटे भाई को जान से मार दिया जाएगा और तुम्हें वैश्यामंडी में बेच दिया जाएगा।

गुरुवार को किसी तरह पीड़ित किशोरी मौका देख कर फरार हो गई और गांव वालों के पास पहुंच गई। गांव के लोगों से पीड़ित किशोरी ने सारी बात कह सुनाई तब ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस पहुंची और पीड़ित किशोरी को अपने कब्जे में लेकर थाने ले आई और पैरों में लगे जंजीर और बेड़ी को कटवाया।

ऑनलाइन रेल टिकट पर बीमा कंपनियों ने कमाए 37.14 करोड़, खर्च हुए सिर्फ 4.34 करोड़

पीड़ित किशोरी के बयान पर टिपुरा कॉलोनी निवासी स्व. बांसरोपन शर्मा के पुत्र रामभजन शर्मा को हिरासत में लिया। मामले की भनक लगते ही आरोपी केपी खरवार फरार हो गया। इस मामले में पुलिस ने बताया कि गांव में हीं रहने वाली किशोरी की बड़ी बहन से पूछताछ कर मामले की छानबीन की जा रही है। पुलिस ने आगे बताया कि उक्त किशोरी कई बार भागकर राजस्थान जा चुकी थी जिसे परिजनों द्वारा वहां से लाया गया था। पुलिस मामले की गहराई से छानबीन में जुटी हुई है।

About Ranjeet Jha 2361 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*