आ रही है भारत की पहली ‘स्वदेशी ट्रेन’, मेट्रो रेल वाली फीलिंग है, जानिए और भी खासियत

लाइव सिटीज डेस्क :ट्रेन में सफ़र को इंडियन रेलवे और भी आरामदायक बनाना चाहता है. इसके लिए कई सुविधाएं रेल यात्रियों को मुहैया कराई जा रही हैं. ट्रेनों में विशेष व्यवस्था कराई जा रही है. इंडियन रेलवे फ्लेक्सी फेयर सिस्टम पर तो काम कर ही रही है. लेकिन अब देश को पहली बार स्वदेशी ट्रेन भी दी जा रही है. भारत की पहली स्वदेशी ट्रेन के बारे में अब जानकारी यह है कि अगले साल दिसंबर तक यह पटरी पटरी पर दौड़ने के लिए तैयार हो जाएगी.

रेलवे बोर्ड के एक सदस्य ने इस ट्रेन की जानकारी गुरुवार को दी है.  यह ट्रेन दिल्ली में चलने वाली मेट्रो ट्रेन के जैसी होगी, लेकिन यह बड़े पैमाने पर निर्मित की जाएगी. पटरी पर यह 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकेगी. मेट्रो ट्रेन के विपरीत 16 डिब्बे वाली ये गाड़ियां लंबी दूरी तय करने में सक्षम होंगी. ट्रेन में सीट कन्फर्म होगी या नहीं, अब ऐसे बताएगा इंडियन रेलवे



ट्रेन का सेट दिल्ली मेट्रो ट्रैक के ही जैसा होगा. इसमें कई कोच ऐसे होंगे जो प्रोपल्शन सिस्टम से लैस होंगे. इससे लोकोमोटिव की जरूरत खत्म हो जाएगी. रेलवे बोर्ड के सदस्य रविंद्र गुप्ता ने कहा कि शुरू में यह चेयर कार होगी, लेकिन अंत में शयनयान भी इसमें शामिल किया जाएगा.

इस ट्रेन की कुछ खासियत इस प्रकार है. कहा जा रहा है कि यह तेज गति से अधिक चक्कर लगा सकती है. सामान्य ट्रेनों की तुलना में ये यात्रियों को उनके गंतव्यों पर जल्द पहुंचाएंगे. रेलवे में पहली बार इन ट्रेन सेटों में स्वचालित दरवाजे होंगे. स्वचालित दरवाजे स्टेशनों पर अपने आप खुलेंगे और अपने आप बंद होंगे. बाकी ट्रेनों के मुकाबले इनमें बड़ी खिड़कियां होंगी. सभी डिब्बे पूरी तरह वातानुकूलित होंगे और जैव शौचालयों से लैस होंगे.