नहीं रहें बिहार के पूर्व राज्यपाल बूटा सिंह, दिल्ली में ली अंतिम सांस, देश में शोक की लहर

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : बिहार के पूर्व राज्यपाल व देश के पूर्व गृह मंत्री बूटा सिंह का निधन हो गया. 86 साल की उम्र में उन्होंने दिल्ली में अंतिम सांस ली. इनके निधन से पूरे देश में शोक की लहर है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राहुल गांधी समेत कई राजनीतिज्ञों ने ट्वीट कर अपनी संवेदना प्रकट की है.

पीएम नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट किया ‘बूटा सिंह जी एक अनुभवी प्रशासक के साथ-साथ गरीबों और दलितों के कल्याण की प्रभावी आवाज थे. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदना है’.



वहीं कांग्रेस सांसद राहुल गांदी ने बूटा सिंह को याद करते हुए ट्वीट किया ‘, ‘सरदार बूटा सिंह जी के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है. उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा. इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएं’.

बता दें कि बूटा सिंह 2004-06 तक बिहार के राज्यपाल रहे. इसके अलावे देश के कृषि मंत्री और राजीव गांधी की सरकार में वो गृह मंत्री रह चुके हैं. कांग्रेस नेता बूटा सिंह 8 बार लोकसभा सदस्य रहे. पंजाब के जालोर से वो लगातार चार बार चुनाव जीते. 1977 में जब देशभर में कांग्रेस के खिलाफ बड़ी लहर चल रही थी, पार्टी के बड़े-बड़े नेता लोक सभा चुनाव हार गए थे. तब बूटा सिंह इंदिरा गांधी के साथ चट्टान की तरह खड़े रहे.

1977 के बाद कांग्रेस जब दो हिस्से में बंट गयी थी उस समय भी उन्होंने कांग्रेस का साथ नहीं छोड़ा.  पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का साथ दिया था, उनके नेतृत्व वाली कांग्रेस के दामन थामे रखा. इन्ही के कारण कांग्रेस को पंचा छाप निशान मिला. बिहार में जब 2004 में राष्ट्रपति शासन लगा तो उनका एक बयान ने अपराधियों के बीच हड़कंप मचा दिया था. उन्होंने कहा था कि अपराधियों को चप्पल से मारकर बिहार से खदेड़ दिया जाएगा.