मुजफ्फरपुर में नामांकन बाद पूर्व मंत्री का बेटा गिरफ्तार, साल 2019 के एक मामले में थी पुलिस को तलाश

लाइव सिटीज, अभिषेक/मुजफ्फरपुर : बिहार में तीसरे चरण के विधानसभा चुनाव को लेकर नामांकन की प्रक्रिया चल रही है.  इसी बीच जिन प्रत्याशियों पर विभिन्न मामले दर्ज हुए है, उन्होंने अभी तक कोर्ट से बेल नहीं लिया है, उनकी गिरफ्तारी भी की जा रही है. इसी कड़ी में सोमवार को नामांकन करने पहुंचे अखिलेश यादव को पुलिस ने धर दबोचा.

अखिलेश यादव जनता दल सरकार में मंत्री रहे गणेश प्रसाद यादव के पुत्र हैं. अखिलेश यादव जैसे ही नामांकन के बाद बाहर आए पुलिस ने उन्हें धर दबोचा. अखिलेश यादव को पुलिस अपने साथ थाने ले गयी. अखिलेश यादव की गिरफ्तारी 2019 के एक मामले में हुई है.



बताया जा रहा की 2019 में आईपीएचसी में एक्सपायर दवा वितरण की जांच पड़ताल को लेकर पहुंचे तत्कालीन सिविल सर्जन शैलेश प्रसाद सिंह के साथ धक्का-मुक्की की गई थी. और कई कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार भी किया गया था. इस सारे मामले में अखिलेश यादव पर शामिल होने का आरोप है. इसको लेकर एक कर्मी के द्वारा एक मुकदमा दर्ज कराया गया था. जिसमें आजतक उन्होंने बेल नहीं लिया.

पुलिस को जैसे ही अखिलेश यादव द्वारा नामांकन करने की सूचना मिली तो उसने तुरंत कार्रवाई करते हुए गिरफ्तारी कर लिया. बताया जाता है कि पूर्व मंत्री के पुत्र भ्रष्टाचार समेत कई मुद्दों को लेकर प्रखंड में लगातार आंदोलन किया करते हैं.