चोर IPS की पूरी कहानी : पहले केरल, फिर दिल्‍ली का Vajiram और अब Jail जाने तक

नई दिल्‍ली : नाम शफीर करीम. नकली वाले नहीं असली वाले आईपीएस . पहले छपी खबर में संशोधन यह कि 2014 में नहीं 2015 में आईपीएस के लिए सेलेक्‍ट हुए थे . यूपीएससी के इम्तिहान-ए-हिंद (सिविल सर्विस एग्‍जामिनेशन) में 112 वीं रैंक मिला था . कैडर तमिलनाडु अलॉट हुआ था . अभी एएसपी (प्रोबेशन पीरियड) के पद पर तैनात थे .

जानकार बताते हैं कि रैंक के हिसाब से शफीर करीम चाहते तो 2015 में ही आईएएस बन जाते . लेकिन साउथ की फिल्‍म ‘ कमिश्‍नर’ से प्रभावित थे . सो, 2015 में बने  आईपीएस . पर दो साल बाद फिर से आईएएस बनने की सनक सवार थी . अपने होम स्‍टेट केरल कैडर के लिए सेलेक्‍ट होना चाहते थे .

शफीर करीम ने कई शहरों में आईएएस की तैयारी करने वालों के लिए अपने नाम वाला ‘करीम आईएएस’ कोचिंग भी खोल रखा था . पर खुद आईएएस बनने की चाहत में बुरे फंस गये . 2017 की पीटी में पास होने के बाद मेन्‍स एग्‍जामिनेशन में चोरी करते मद्रास में धरे गये . सोमवार 30 अक्‍तूबर को चेन्‍नई जेल पहुंचा दिये गये हैं . अब आईपीएस की नौकरी भी जाएगी . वाइफ जॉयसी जॉय और दोस्‍त पी रामबाबू पर भी आफत आ गई है . ये दोनों अभी पुलिस के कब्‍जे में हैं .

मोजे में छुपा फोन-ब्‍लूटूथ डिवाइस ले गये थे

यूपीएससी का मेन्‍स एग्‍जामिनेशन पांच पेपर का होता है . पहले पेपर में चेन्‍नई के सेंटर पर आईपीएस शफीर करीम शनिवार को शामिल हुए थे . कुछ झोल कर रहे हैं करीम,आईबी की यूनिट को शक शनिवार को हो गया था . नियम से एग्‍जामिनेशन सेंटर में परीक्षार्थी मोबाइल फोन और दूसरे इलेक्‍ट्रानिक डिवाइस नहीं ले जा सकते हैं .

अगले दिन परीक्षा हॉल में इंटर करने के पहले आईपीएस शफीर करीम ने अपने शरीर की तलाशी कराई . पर्स जमा कराया,साथ में एक मोबाइल फोन भी . मोबाइल यह कहते हुए जमा कराया था कि भूल से लेकर चले आए हैं,इसे बाहर गाड़ी में ही उन्‍हें छोड़ देना था .

परीक्षा शुरु होते ही जैसे प्रश्‍न-पत्र बंटा,आईपीएस शफीर करीम ने अपना खेला शुरु कर दिया . शरीर में हरकत कर रहे शफीर करीम को आईबी के अधिकारियों ने नोटिस कर लिया . अब फिर से बॉडी की जांच हुई . पाया गया कि करीम मोजे से मोबाइल निकाल उस पर ही बैठे थे . शर्ट की कॉलर में न दिखने जैसा माइक लगा था . कान में ब्‍लूटूथ का स्‍मार्ट डिवाइस कनेक्‍ट था . 

प्रश्‍न-पत्र को हैदराबाद भेजा गया था

आईबी के अधिकारियों ने अब परीक्षार्थी आईपीएस शफीर करीम को कस्‍टडी में ले लिया था . मोबाइल,शर्ट माइक और ब्‍लूटूथ डिवाइस की जब्‍ती हो चुकी थी . पूरा सच सामने आ गया . प्रश्‍न-पत्र बंटते ही शफीर करीम ने उसे मोबाइल के कैमरे में कैद किया था . इस तरह से आईएएस मेन्‍स एग्‍जामिनेशन के क्‍वेश्‍चन को जीमेल/व्‍हाट्सएप के जरिये सेंटर से बाहर भेजा जा चुका था . कड़क पूछताछ में शफीर करीम तुरंत टूटे . इलेक्‍ट्रानिक डिवाइस भी परीक्षा हॉल से बाहर प्रश्‍न-पत्र को रिसीव/सीन करने वाले की पहचान बता चुका था .

अब आईबी यूनिट के अधिकारियों ने तुरंत हैदराबाद पुलिस को संपर्क किया . आदेश दिया गया कि टास्‍क फोर्स तुरंत हैदराबाद के आईएएस कोचिंग इंस्‍टीच्‍यूट La Excellence  में रेड करे . रेड करने को पहुंची टास्‍क फोर्स को कोचिंग सेंटर के सीक्रेट कमरे में आईपीएस शफीर करीम की पत्‍नी जॉयसी जॉय और कोचिंग के डायरेक्‍टर पी रामबाबू चेन्‍नई से प्राप्‍त क्‍वेश्‍चन पेपर को सॉल्‍व करते मिल गये,जिन्‍हें तुरंत कस्‍टडी में ले लिया गया . दोनों शफीर करीम के चेन्‍नई में पकड़े जाने के पहले सवाल का जवाब मोबाइल फोन के जरिये भेज रहे थे . उन्‍हें अब तक करीम के पकड़ लिए जाने की खबर नहीं मिली थी .  

दिल्‍ली के वाजीराम एंड रवि में हुई थी दोस्‍ती

नई दिल्‍ली के वाजीराम एंड रवि को देश में आईएएस पैदा करने वालों की फैक्‍ट्री माना जाता है . करोल बाग में स्थित इस कोचिंग सेंटर में दाखिले के लिए ऑनलाइन कूपन प्राप्‍त करना भी बड़ा कड़ा काम है . इसी कोचिंग में शफीर करीम आईएएस की तैयार करने को केरल से नई दिल्‍ली आये थे . वाजीराम एंड रवि के दिनों में ही करीम की दोस्‍ती पी रामबाबू से हुई थी . बाद में पी रामबाबू ने हैदराबाद में खुद की कोचिंग खोल ली थी . उधर करीम ने आईपीएस बनने के बाद दूसरों को आईएएस बनाने के लिए कोच्चि और तिरुवनंतपुरम में कोचिंग संस्‍थान की स्‍थापना कर ली थी . इसी कोचिंग में इकोनॉमिक्‍स पढ़ाने को  जॉयसी जॉय आया करती थी, जिससे शफीर करीम को लव हो गया . फिर दोनों ने 2016 में शादी कर ली .

शफीर करीम के दोस्‍त ऐसा कहते हैं….

गिरफ्तारी और जेल जाने के बाद शफीर करीम के कुछ दोस्‍तों ने चेन्‍नई में मीडिया को बताया है कि परेशानी कुछ और थी . यूं ही शफीर करीम अब आईएएस बनने को बेताब नहीं था . दरअसल,वह एक एक्‍सीडेंट का शिकार हो गया था . आईपीएस की नौकरी में अभी प्रोबेशन पीरियड में ही था . फिर पुलिस फिटनेस टेस्‍ट में पास होने पर भी ग्रहण लगा था . सो,उसने करियर का प्‍लान बदल दिया था . कैट एग्‍जाम में वह टॉपर था . लेकिन अब चाहता था कि आईपीएस की नौकरी में पुलिस वर्क के झमेले से मुक्‍त होकर आईएएस बने और अपने होम स्‍टेट केरल के लिए सेलेक्‍ट हो जाए . पर,प्‍लान के सक्‍सेस होने के पहले ही जेल चला गया . अब सब कुछ खत्‍म हो चुका है .