मानव श्रृंखला को लेकर तैयार है पटना पुलिस, चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा चाक-चौबंद

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार एक बार फिर से तैयार है. सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ एकजुट होने के लिए. राज्य के कोने-कोने से लोग हाथ में हाथ पकड़ कर साथ खड़े हो जाएंगे. विशाल मानव श्रृंखला का आयोजन आज दोपहर 12 बजे से किया जा रहा है. इसको लेकर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दिया गया है. बात राजधानी पटना की करें तो किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पटना पुलिस तैयार है.

पटना के गांधी मैदान में लोगों का जुटना शुरू हो गया है. पटना पुलिस पूरी एहतियात के साथ व्यवस्था संभाले हुए है. गांधी मैदान के चारों गेट पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. गहन जांच के बाद ही लोगों को प्रवेश दिया जा रहा है. दरअसल, बक्सर के नंदन गाँव में सीएम नीतीश के काफिले के बाद से पटना पुलिस बेहद सतर्क है. यही वजह है कि चप्पे चप्पे पर सुरक्षा व्यवस्था एकदम चौकस कर ली गई है. पिछले बार की तरह इस बार भी ड्रोन कैमरे और सेटेलाइट से नजर रखी जाएगी.

मानव श्रृंखला को लेकर टाइट है अरेंजमेंट

गांधी मैदान की ओर आने वाले सभी रास्तों पर पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए हैं. लोगों को असुविधा न हो इसलिए जगह-जगह हेल्प डेस्क और कंट्रोल रूम बनाये गए हैं. सड़कों पर ट्रैफिक रूट में बदलाव किये गए हैं. जिससे मानव  श्रृंखला के दौरान कोई ट्रैफिक की समस्या आड़े न आये. आज फिर इतिहास रचने को तैयार है पटना का गांधी मैदान, दहेज-बाल विवाह के खिलाफ मानव श्रृंखला 

बिहार आज रविवार 21 जनवरी को एक बार फिर इतिहास बनाने जा रहा है. दहेज और बाल विवाह के खिलाफ सबसे लंबी मानव श्रृंखला बनाने का रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है. शराबबंदी के समर्थन में बिहार में बनी मानव श्रृंखला ने दुनिया को नया संदेश दिया था. इस मानव श्रृंखला ने विश्व रिकॉर्ड बनाकर अपना उत्साह दिखाया था. उसी प्रकार बाल विवाह और दहेज-प्रथा के खिलाफ बिहार एक बार फिर हाथ से हाथ मिलाकर पूरी दुनिया को एक नया संदेश देने के लिए तैयार है.

बता दें कि दहेज प्रथा और बाल विवाह से होने वाली हानि से आम बिहारियों में जागृति लाने के लिए आज 21 जनवरी को पूरे बिहार में राज्य सरकार ने मानव श्रृंखला का आयोजन किया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मानव श्रृंखला में तमाम बिहार के लोगों से भाग लेने की अपील की है. वहीं राजधानी पटना के गांधी में विशेष तैयारियां की गई हैं. सज-धज कर तैयार है गांधी मैदान.

इसके अलावा जन जागृति के लिए जो जन जागरण अभियान चलाए जा रहे हैं उसमें बाल विवाह एवं दहेज उन्मुलन संबंधी 8,55,595 नारे कुछ दिनों पहले तक लिखे गए थे. जो अब बढ़कर 16 लाख से उपर हो गए हैं. लिखे गए नारों में सबसे आगे मधुबनी में 1,83,000, औरंगाबाद में 55,000, खगड़िया में 52920, बांका में 47862 तथा समस्तीपुर में 43068 नारे जन जागरुकता फैला रहे हैं.

बता दें कि पिछले साल 21 जनवरी को शराबबंदी के पक्ष में लगभग 4 करोड़ लोगों ने हाथ से हाथ मिलाकर 11,292 किमी लंबी मानव श्रृंखला का निर्माण कर एक इतिहास रच दिया था. उसी तरीके से इस बार भी तैयारी की गई है, जिसमें सूबे के सभी जिलों को मिलाकर 13654.37 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनेगी.

About Ranjeet Jha 2861 Articles
I am Ranjeet Jha (पत्रकार)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*