शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार आज, दिल्ली में दो दिनों का राजकीय शोक

फाइल फोटो

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : दिल्ली की पूर्व सीएम और कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री शीला दीक्षित का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा. शीला दीक्षित का अंतिम संस्कार आज दोपहर दिल्ली के निगमबोध घाट पर किया जाएगा. बता दें कि तीन बार दिल्ली की सीएम और वर्तमान में दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने शनिवार को अंतिम सांसें ली थीं.

इसके पहले सुबह 11: 30 बजे उनका पार्थिव शरीर कांग्रेस दफ्तर ले जाया जाएगा. यहां कांग्रेस नेता और अन्य लोग शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि देंगे. इसके बाद वहां से पार्थिव शरीर को निगमबोध घाट ले जाया जाएगा. बता दें कि शीला दीक्षित कुछ वक्त से बीमार चल रही थीं. उन्हें एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. शनिवार को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.



कई नेताओं जताया शोक

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने शनिवार को 81 साल की उम्र में आखिरी सांसे ली. वे सबसे लंबे समय तक तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं. 1998 से लेकर 2013 तक शीला दीक्षित ने सीएम के तौर पर कार्यभार संभाला. उनके सम्मान में दिल्ली सरकार ने दो दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है. उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह समेत कई बड़े नेताओं ने श्रद्धांजलि दी है.

पीएम ने जताया शोक

पीएम नरेंद्र मोदी ने भी  शीला दीक्षित के निधन पर शोक जताया. उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित के निधन से गहरा दुख हुआ. शीला दीक्षित ने दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.

सीएम नीतीश कुमार ने भी जताया शोक

शीला दीक्षित के निधन पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भी शोक जताया है. उन्होंने शीला दीक्षित के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. मुख्यमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा है कि शीला दीक्षित एक प्रसिद्ध समाजसेवी थी. लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थी. दिल्ली के विकास के लिए उन्होंने काफी कार्य किए. उनके निधन से न केवल दिल्ली बल्कि पूरे देश के राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्र में अपूर्ण क्षति हुई है. मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति तथा उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में शक्ति प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की.

जनता से जुड़ने में नाकाम रहे तेजस्वी, नेता के बिना विपक्ष करता रहा हंगामा