स्टेट बैंक ने दी खुशखबरी, अब ग्राहकों को 1000 रुपए तक के लेनदेन पर नहीं लगेगा शुल्क

लाइव सिटीज डेस्क : GST लागू होने के बाद से देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने जहां कई चीज़ों पर शुल्क लगा दिया है या टैक्स में बढ़ोतरी कर दी है. जिसका भार सीधे कस्टमर पर पड़ने वाला है. वहीं एसबीआई ने ग्राहकों को राहत भी दिया है. खास कर वैसे ग्राहक जो छोटी लेन-देन करते हैं. उसके लिए राहत भरी खबर है. 

देश की अग्रणी बैंक एसबीआई ने छोटे डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए 1,000 रुपये तक के आईएमपीएस (तत्काल भुगतान सेवा) हस्तांतरण पर शुल्क समाप्त कर दिया है.
इससे पहले 1,000 रुपये तक के आईएमपीएस लेनदेन पर देय सेवाकर के साथ स्टेट बैंक प्रति लेनदेन 5 रुपये का शुल्क वसूल रहा था. बता दें कि आईएमपीएस एक त्वरित अंतरबैंकिंग इलेक्ट्रॉनिक कोष हस्तांतरण सेवा है. इसका उपयोग मोबाइल फोन और इंटरनेट बैंकिंग दोनों माध्यम से किया जा सकता है.

बैंक ने कहा,  छोटे लेनदेन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उसने 1,000 रुपये तक के आईएमपीएस हस्तांतरण पर शुल्क माफ कर दिया है. माल एवं सेवाकर (जीएसटी) लागू होने के बाद वित्तीय लेनदेन पर 18 की दर से कर लगाए जाने की सूचना देने के दौरान उसने यह जानकारी दी.

अब 1,000 रुपये तक के आईएमपीएस हस्तांतरण पर शुल्क माफ होगा जबकि 1,000-1,00,000 रुपये के लेनदेन पर 5 रुपये और 1,00,000 रुपये-2,00,000 रुपये पर 15 रुपये शुल्क देय होगा.

वहीं एक जुलाई से GST आने के बाद से इस बैंक की कई सेवाएँ महँगी भी हो गई हैं.

अब आपको देना होगा 18 फिसदी सर्विस टैक्स

एसबीआई के बैंक की सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए अब आपको 18 प्रतिशत सर्विस चार्ज देना होगा. वहीं इससे पहले एसबीआई अपने कस्टमर्स से 15 प्रतिशत तक सर्विस चार्ज लेता था. जीएसटी के लागू होने के बाद 3 प्रतिशत तक सर्विस चार्ज बढ़ा दिए हैं.

एटीएम विड्रॉल के दौरान भी कटेगा ज्यादा पैसा

सेविंग अकाउंट वाले जो एसबीआई मोबाइल एप बैंक बडी (State Bank Buddy) का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उनको प्रति टांजैक्शन के लिए 25 रुपये देना होगा. आपको बता दें कि इसके बाद जीएसटी भी अलग से लगेगा. मतलब विड्रॉल के दौरान 25 प्लस जीएसटी चार्ज देना होगा.

ऑनलाइन ट्रांसफर पर भी कटेगा पैसा

अगर आप एक लाख रुपये तक ऑनलाइन (IMPS) पैसा ट्रांसफर कर रहे हैं तो इसके लिए आपको 5 रुपये प्लस टैक्स देना होगा. वहीं अगर आप 1 से 2 लाख रुपये तक पैसा ऑनलाइन ट्रांसफर कर रहे हैं तो इसके लिए आपको 15 रुपये प्लस टैक्स अदा करना होगा और अगर आपका ऑनलाइन ट्रांसफर अमाउंट 2 से 5 लाख रुपये हैं तो इसके लिए आपको 25 रुपये के साथ टैक्स देना होगा.

खराब नोट बदलने पर भी लगेगा पैसा

एसबीआई के अनुसार अगर आप 20 से ज्यादा खराब नोट्स या 5000 से ज्यादा रुपये तक के नोट्स बदलना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 2 रुपये और साथ में टैक्स भी देना होगा. हालांकि बैंक अनुसार बाकि जितने भी नॉर्मल सेविंग बैंक अकाउंट्स हैं, उनके लिए एटीएम विड्रॉल की सेवाएं यथावत रहेगी.

यह भी पढ़ें-  GST इफेक्ट : SBI ने बदले हैं कुछ नये नियम, आप पर होंगे ये असर