बिहार में डबल नहीं विफल इंजन की हैं सरकार, आंकड़ों के माध्यम से कांग्रेस ने पीएम मोदी और सीएम नीतीश पर बोला हमला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में चुनाव है, ऐसे में आरोप प्रत्यारोप का दौर चरम पर है. कांग्रेस लगातार सत्तारूढ़ दलों पर हमलावर बनी हुई है. बिहार में डबल इंजन की सरकार को हर मोर्चे पर विफल साबित करने को लेकर आंकड़े पेश किए जा रहे हैं. पहले कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने पीएम राहत पैकेज को लेकर सवाल खड़े किए, अब कांग्रेस की प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेह ने पीएम केयर फंड की पारदर्शिता को लेकर एनडीए को घेरने की कोशिश की.

पटना में प्रेस वार्ता करते हुए सुप्रिया श्रीनेह ने केन्द्र और राज्य सरकार पर जबरदस्त हमला बोला. उन्होंने डबल इंजन की सरकार को विफल इंजन की सरकार करार देते हुए कहा कि कोरोना के समय बिहार को मदद नहीं पहुंचायी गयी. कोरोना काल में बिहार की बेरोजगारी 46 फीसदी को पार कर गई. खासकर युवाओं में 55 प्रतिशत बेरोजगारी हो गयी.



श्रीनेह ने पूछा कि रोजगार के बिना यह कैसा विकास? रोजगार नहीं होगा तो लोग खर्च कहां से कर सकेंगे? हमारी सरकार आएगी तो हम 10 लाख युवाओं को रोजगार देंगे. किसानों की ऋण माफी की जाएगी. बजट का 22 फीसदी हिस्सा शिक्षा पर खर्च किया जाएगा. इससे बिहार में खुशहाली आएगी.

वहीं सीएम नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए सुप्रिया श्रीनेह ने कहा कि नीतीश कुमार ने 2015 में बड़े बहुमत की भ्रूण हत्या बिहार में कर दी थी. वे सबसे बड़ा पलटूराम हैं. महागठबंधन ने जब मुद्दों की बात की तब उनकी नींद हराम हो रही है.

उन्होंने कहा कि बिहार में जितनी बदहाली किसानों में है उतनी देश में और कहीं नहीं है. बिहार में किसानों की मासिक आय औसतन 3000 रुपये है और यह देश में सबसे कम है. बेरोजगारी इस कदर है कि ग्रुप डी की वैकेंसी के लिए एमए और एमसीए पास युवा अप्लाई करते हैं. क्या 15 वर्षो में डबल इंजन की सरकार ने यही विकास किया है.