प्लाज्मा दान करने वालों को प्रोत्साहन राशि देगी सरकार, दधीचि देहदान समिति के कार्यक्रम में बोले डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना एम्स के साथ अब जयप्रभा, पारस अस्पताल, महावीर कैंसर संस्थान,पटना और भागलपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल को भी प्लाज्मा बैंक खोलने की सरकार ने अनुमति दे दी है. डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने दधीचि देहदान समिति, बिहार की ओर से ‘विश्व अंगदान दिवस’ पर आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा. उन्होंने  प्रदेश भर के एक हजार से ज्यादा समिति सदस्यों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोरोना मरीजों के लिए प्लाज्मा दान करने वालों को समिति की ओर एक हजार रुपये प्रोत्साहन के तौर पर दिया जाएगा. राज्य सरकार की ओर से भी प्लाज्मा दानकर्ताओं के लिए प्रोत्साहन राशि की शीघ्र घोषणा की जाएगी.

मोदी ने कहा कि जो लोग कोरोना संक्रमण से पूरी तरह ठीक हो चुके हैं, अगर वे कोरोना मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा दान करने को इच्छुक हैं, तो दधीचि देहदान समिति वैसे लोगों से पूरे बिहार में सम्पर्क कर उनकी सूची बनाएगी और उन्हें प्लाज्मा दान करने के लिए प्रोत्साहित करेगी.



इस अवसर पर आम लोगों से अपील करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि कोरोना से डरने का नहीं, सतर्क रहने की जरूरत है. कोरोना संक्रमितों में से मात्र 03 प्रतिशत को ऑक्सीजन, 02 प्रतिशत को आईसीयू व 01 प्रतिशत से भी कम को वेंटिलेटर की जरूरत पड़ती है. बिहार में कोरोना से मृत्युदर 01 प्रतिशत से भी कम है. 85 प्रतिशत से ज्यादा संक्रमित 5 से 7 दिन के अंदर संक्रमणमुक्त हो रहे हैं.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 8 करोड़ 82 लाख की लागत से राज्य के 8 चिकित्सा महाविद्यालयों में चक्षु बैंक स्थापित करने का निर्णय लिया था जिनमें से आईजीआईएमस, पीएमसीएच पटना के साथ भागलपुर और गया में स्थापित हो चुका है, बाकी चार जगहों पर भी शीघ्र ही कार्यरत हो जाएगा.  

इस मौके पर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय, समिति के महासचिव बिमल जैन, दीधा के विधायक संजीव चैरसिया आदि भी उपस्थित रहे. इसके पूर्व एम्स पटना में कोरोना के नोडल चिकित्सक डा. संजीव, प्लाज्मा बैंक की प्रमुख डा. नेहा ने प्लाज्मा दान तथा आईजीआईएमएस के डा. विभूति ने नेत्रदान के बारे में पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के जरिए विस्तार से बताया.