असंगठित क्षेत्र के कामगारों को सबल बनाने पर सरकार का फोकस, मंत्री जिवेश कुमार ने कहा- विभाग ने 10412500 करोड़ रुपये लाभार्थी के खाते में किया गया हस्तांतरित

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क:  बिहार शताब्दी असंगठित कार्य क्षेत्र कामगार एवं शिल्पकार सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2021-22 में कुल एक करोड़ चार लाख बारह हजार पांच सौ रुपये लाभार्थी के खाते में हस्तांतरित किया गया. जिसकी जानकारी देते हुए श्रम संसाधन मंत्री जिवेश कुमार ने बताया कि असंगठित क्षेत्र के कामगारों को सबल बनाये जाने के लिए राज्य में श्रम संसाधन विभाग के अंतर्गत बिहार भवन सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड कार्यरत है, बोर्ड के तहत निबंधित कामगारों को लाभ दिए जाने हेतु अनेक योजनाओं का संचालन किया जा रहा है. जिसमें असंगठित क्षेत्र में कार्यरत कामगार एवं शिल्पकार के लिए विशेष सहायता दिए जाने का प्रावधान है, जिसे बिहार शताब्दी असंगठित कार्य क्षेत्र कामगार एवं शिल्पकार सामाजिक सुरक्षा योजना-2011 के नियमानुकूल दिया जाता है. जिसका उदेश्य बिहार राज्य के असंगठित कार्य क्षेत्र में कार्यरत कामगारों एवं शिल्पकारों को सामाजिक और आर्थिक रुप से सबल बनाना है. 

योजना के नियमानुकूल वैसे स्वनियोजित/स्वरोजगार करनेवाले बिहार राज्य के निवासी, जो राज्य में विभिन्न प्रकार के शिल्पकारी यथा: टोकरी निर्माण, खिलौना निर्माण, कसीदाकारी, मूर्ति निर्माण और रंगरेज आदि एवं वैसे सभी कामगार जो अन्य असंगठित क्षेत्र में अपनी प्रकृति के अनुरुप अन्य व्यवसाय के माध्यम से जीविकोपार्जन कर रहे हैं.

उन्हें दुर्घटना के शिकार होने के साथ अप्रिय घटना घटने पर, यथाः रेल अथवा सड़क दुर्घटना सर्पदंश, पेड़ अथवा भवन का गिरना, जंगली जानवरों का आक्रमण, आतंकवादी अथवा आपराधिक आक्रमण आदि में देय है. बशर्ते, स्वेच्छा से लगायी गयी चोट, आत्महत्या, नशा के कारण हुयी दुर्घटना या मृत्यु के साथ आपराधिक घटनाओं में निःशक्तता को इसमें शामिल नहीं किया गया है.

दुर्घटना के 180 दिनों के अंदर दुर्घटना के फलस्वरुप पूर्णतः एवं प्रत्यक्ष रुप से शारीरिक क्षति के कारण हुयी मृत्यु होने की स्थिति में या किसी अन्य कारण से मृत्यु होने पर लाभ मृत्यु की स्थिति में उनके परिजन और दुर्घटना की स्थिति में लाभार्थी को दिया जाता है.

इस वित्तीय वर्ष (2021-22) में अभी तक दुर्घटना में मृत्यु होने पर कुल 76 लाख, आंशिक रूप से प्रभावित होने पर 1 लाख 87 हजार पांच सौ, स्वभाविक मृत्यु पर 26 लाख 10 हजार रुपये और असाध्य रोग के लिए 15 हजार रूपये लाभार्थी के खाते में हस्तांतरित की गयी है. श्रम संसाधन विभाग, हर स्तर पर कामगारों के हित के लिए निरंतर कार्यरत है, साथ ही उनका बीमा करा रहा है और पेंशन योजना से भी जोड़ रहा है.