आईसीयू में महागठबंधन, सीटों को लेकर आरजेडी-कांग्रेस में बढ़ गयी तकरार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : आजेडी और कांग्रेस का रिश्ता अब आईसीयू में पहुंच गया है. अभी तक दोनों के बीच गठबंधन की खिचड़ी नहीं बन पा रही है. दिल्ली में मंथन के बाद भी दोनों का रिश्ता सुधरता नहीं दिख रहा है. दोनों ओर से यह कोशिश की जा रही है कि गठबंधन कहीं वेंटिलेटर पर ना चला जाए.

आरजेडी ने तो यह साफ कर दिया कि 60 सीट से ज्यादा एक सीट भी कांग्रेस को नहीं देगी. चाहे गठबंधन रहे या टूट जाए. उधर कांग्रेस अपनी मांग पर अड़ी हुई है. इसको लेकर दिल्ली में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और सदानंद सिंह के साथ मंथन हो रहा है.



कहा तो यह भी जा रहा है कि कांग्रेस को वो सीटें दी जा रही है जहां पर जीत की संभावना काफी कम है. जो पार्टी को मंजूर नहीं है. राहुल गांधी का कहना है कि बिहार में तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनना है. इसलिए उन्हें त्याग करने की जरूरत है. कांग्रेस को कम आंकना सहीं नहीं है.

महागठबंधन से पहले ही मांझी, रालोसपा ने नाता तोड़ लिया है. लेफ्ट का सबसे बड़ा दल सीपीआई माले ने भी 30 सीटों की सूची जारी कर दी है. माले की ओर से जारी सूची में अधिकतर वैसै सीट है जहां पर आरजेडी के या तो सिटिंग विधायक है या फिर वहां पर आरजेडी की पकड़ काफी मजबूत है.

महागठबंधन में रातभर में क्या खिचड़ी पकेगी यह कहना अभी मुश्किल है. क्यों कि 1 अक्टूबर से ही पहले चरण के चुनाव के लिए नॉमिनेशन शुरू होने वाला है. ऐसे में अभी तक सीट को लेकर आरजेडी-कांग्रेस में खींचतान जारी है.