30 जून की आधी रात GST की भव्य लॉन्चिंग, Tax के क्षेत्र में बनेगा इतिहास

लाइव सिटीज डेस्क :  30 जून भारतीय अर्थव्यवस्था की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस साबित होने जा रहा है. सभी राज्य सरकारें आजादी के बाद के सबसे बड़े कर सुधार को 30 जून की मध्यरात्रि से लागू करने पर राजी हो गई हैं. इस तारीख को संसद के केंद्रीय कक्ष से राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हाथों जीएसटी की लॉन्चिंग की जाएगी. संसद के केंद्रीय कक्ष में होने वाला यह कार्यक्रम रात करीब 11 बजे शुरू होगा. इस बात की जानकारी केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दी. केंद्र सरकार ने साफ कर दिया कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) 30 जून और एक जुलाई की मध्य रात्रि को ही लागू होगा.  

अरुण जेटली ने कहा कि जीएसटी ज्यादा एफ्फेक्टिव टैक्स सिस्टम है और इससे टैक्स और राजस्व की चोरी रुकेगी और केंद्र और राज्य सरकारों की आमदनी और खर्च की क्षमता बढ़ेगी. केंद्र सरकार देश में लगने वाले सभी अप्रत्यक्ष करों की जगह एक ही कर जीएसटी लागू कर रही है. जीएसटी में सभी वस्तुओं और सेवाओं पर चार वर्गों में बांटकर टैक्स लिया जाएगा. केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त जीएसटी काउंसिल ने पांच, 12, 18 और 28 प्रतिशत की दरें टैक्स के लिए तय की हैं. 

इसके लिए आयोजित भव्य कार्यक्रम में देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पीएम मोदी, वित्त मंत्री अरुण जेटली, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, एच डी देवेगौड़ा, राज्यों के मुख्यमंत्री, राज्यसभा और लोकसभा के सभी सदस्य समेत कई गणमान्य हस्तियां उपस्थित रहेंगी. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस बात की जानकारी दी. इसके साथ ही कार्यक्रम में जीएसटी पर दो शॉर्ट फिल्में भी दिखाई जाएंगी.उन्होंने कहा कि जीएसटी से जुड़ी तैयारियां हो चुकी हैं और सरकार इसे समय से लागू करने को प्रतिबद्ध है.

अरुण जेटली ने कहा कि केरल और जम्मू-कश्मीर को छोड़ कर बाकी सभी राज्यों में 1 जुलाई से जीएसटी लागू हो जाएगा. उन्होंने कहा कि केरल में अगले हफ्ते जीएसटी कानून पास होने की तैयारी चल रही है जबकि जम्मू-कश्मीर में इस दिशा में काम चल रहा है.

यह भी पढ़ें-  GST: होटल और प्राइवेट लॉटरी पर 28% टैक्स तय