जेडीयू पार्टी कार्यालय में गुप्तेश्वर पांडेय ने सीएम नीतीश से की मुलाकात, कयासों का बाजार गर्म….

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार चुनाव की रणभेरी बज गई है. जंग का ऐलान हो गया है. लेकिन बिहार 2020 के चुनावी मैदान में राजनीति के सिपाहियों का फील्ड बदलना जारी है. यह सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा. जदयू को झटका देकर बिहार की फेमस मुखिया रितु जायसवाल ने पार्टी छोड़ दी. वहीं, हाल ही डीजीपी पद से वीआरएस लेने वाले गुप्तेश्वर पांडेय के जदयू में जाने को लेकर कंफ्यूजन बना रह गया.    

अभी किसी भी पार्टी में नहीं- पांडेय



पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय आज सुबह से ही सुर्खियों में थे. कहा जा रहा था कि आज दोपहर में वे जदयू में शामिल होंगे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें पार्टी कार्यालय में बुलाया है. इसे लेकर मीडिया भी काफी उत्साहित हो गयी थी.

यह अटकलें उस समय और अधिक तेज हो गईं, जब दोपहर में गुप्तेश्वर पांडेय जदयू कार्यालय पहुंच गए. उस समय पार्टी कार्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष व सीएम नीतीश कुमार समेत कई मंत्री मौजूद थे.

बताया जाता है कि इस दौरान नीतीश कुमार से गुप्तेश्वर पांडेय की कुछ देर के लिए मुलाकात हुई. दोनों में क्या बात हुई, इस पर अभी कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं हैं. इसके बाद वे पार्टी कार्यालय से बाहर निकल गए. बाद में उन्होंने मीडिया से कहा कि अभी वे किसी पार्टी में नहीं जा रहे हैं.

बता दें कि गुप्तेश्वर पांडेय ने शुक्रवार को नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा की थी और यह भी कहा था कि नीतीश इज द बेस्ट सीएम. इसके साथ ही उन्होंने नीतीश सरकार की शराबबंदी से लेकर बिजली, सड़क और विकास के तमाम काम की खुलकर प्रशंसा की. नीतीश कुमार की तारीफ किये जाने से यह संकेत मिलने लगा था कि वे शनिवार को जदयू में शामिल हो सकते हैं.

बता दें कि डीजीपी पद से वीआरएस लेने के बाद उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था कि बिहार में किसी भी सीट पर चुनाव लड़कर चुनाव जीत सकता हूं. उन्हें 14 विधानसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ने का आफर मिल रहा है.

बक्सर से चुनाव लड़ने का नीतीश ने दिया आश्वासन

गुप्तेश्वर पांडेय के जदयू के टिकट पर बक्सर से चुनाव लड़ने के संकेत मिल रहे हैं. सूत्रों की मानें तो नीतीश कुमार ने उन्हें जदयू के टिकट पर बक्सर से चुनाव लड़ने की तैयारी करने को कहा है. हालांकि गुप्तेश्वर पांडेय इस संबंध में अपना पत्ता नहीं खोलना चाह रहे हैं.

वहीं दूसरी ओर यह भी चर्चा है कि उन्हें वाल्मीकिनगर लोकसभा क्षेत्र से उपचुनाव में भी खड़ा होने के लिए कहा जा रहा है. ऐसे में कंफ्यूजन है कि वे वाल्मीकिनगर से लोकसभा का उपचुनाव लड़ेंगे या बक्सर विधानसभा में एमलएल के लिए फाइट करेंगे? बताया जाता है कि इसी कंफ्यूजन के कारण आज गुप्तेश्वर पांडेय के जदयू में जाने का मामला टल गया है.