बिहार में SC के बाद HC की फटकार, कहा- बदहाल स्वास्थ्य के लिए सरकार जिम्मेवार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार में बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बिहार के नीतीश सरकार की हर जगह किरकिरी हो रही है. सुप्रीम कोर्ट के बाद पटना हाईकोर्ट ने भी चमकी बुखार से हुई मासूम बच्चों की मौत को लेकर नाराजगी दिखाई है. बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली को लेकर पटना हाईकोर्ट ने सुनवाई की. सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि बिहार में ऐसी स्थिति के लिए राज्य सरकार जिम्मेवार है. बता दें कि जस्टिस ज्योति शरण की खंडपीठ ने बगैर फार्मासिस्ट के चल रहे सरकारी अस्पतालों के मामले पर सुनवाई के दौरान ये बातें कहीं.

एक जुलाई को फिर होगी सुनवाई

कोर्ट ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि अदालती फैसले का पालन नहीं किया गया, तो उन पर 50 हजार रुपए का आर्थिक दंड लगाया जायेगा. वहीं हाईकोर्ट ने नौकरशाही के रवैये पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि वे भी हालात के लिए कम जिम्मेदार नहीं हैं. इस मामले पर 1 जुलाई को फिर सुनवाई की जाएगी.

सुप्रीम कोर्ट ने भी लगाई बिहार सरकार की क्लास

इससे पहले आज AES यानि चमकी बुखार से मासूम बच्चों की मौत के मामले पर दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार की नीतीश सरकार को झटका देते हुए फटकार लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार से जवाब तलब किया है और सात दिनों में रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया है. बिहार में एईएस यानि चमकी बुखार से लगातार हो रही मौतों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार से 7 दिनों में रिपोर्ट मांगा है. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और यूपी की योगी सरकार को भी मामले में नोटिस जारी किया है. AES से मासूम बच्चों की मौत को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जाहिर करते हुए तीन मुद्दों पर जवाब मांगा है जिनमें स्वास्थ्य सेवाओं की पर्याप्तता, पोषण और साफ सफाई शामिल है.

चमकी बुखार पर बिहार की नीतीश सरकार को फटकार

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*