Good News : बिहार में 19864 शिक्षक होंगे बहाल, आदेशपाल व नाइट गार्ड की भी नियुक्ति

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार में युवकों के लिए अच्छी खबर. यदि आप टीचर बनना चाहते हैं और योग्यता की शर्तें पूरी करते हैं आपकी बल्ले-बल्ले. जल्द ही 19864 शिक्षकों की बहाली होगी. ये शिक्षक सूबे के उत्क्रमित माध्यमिक स्कूलों में बहाल किये जायेंगे. इसके अलावा आदेशपाल और नाइट गार्डों की भी बहाली होगी.

शिक्षा मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने यह घोषणा की है. उन्होंने बताया​ कि राज्य के उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों में सभी विषयों में शिक्षकों की बहाली होगी. बहाल होनेवाले शिक्षकों की संख्या 19864 है. इसके लिए पद चिह्नित कर समिति को लिस्ट भेज दी गयी है. समिति इस पर इसी माह फैसला ले लेगी. उन्होंने कहा कि इसके बाद बहाली की प्रक्रिया शुरू हो जायेगी.

दरअसल शिक्षा मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने कल शिक्षक और स्नातक क्षेत्र के विधान पार्षदों के साथ बैठक की. शिक्षकों और स्कूलों से जुड़ी समस्याओं पर लंबी चर्चा हुई. कुल 19 बिंदुओं पर गहरा विमर्श हुआ. शिक्षा मंत्री ने इस पर कार्य योजना रखी. बैठक में शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन समेत तमाम संबंधित अधिकारी मौजूद थे.

डॉ अशोक चौधरी ने कहा कि 30 सितम्बर के पहले ही राजकीय एवं प्रोजेक्ट माध्यमिक स्कूलों में में प्रधानाध्यापकों की बहाली हो जायेगी. उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में छात्रों की पढ़ाई पर शिक्षकों की कमी का असर नहीं होने दिया जायेगा. शिक्षकों की बहाली कर सारी समस्याओं को दूर कर दी जायेगी.

शिक्षकों के अलावा हाईस्कूलों में आदेशपालों की कमी भी दूर की जायेगी. जनशिक्षा के अनुदेशकों को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर शिक्षा विभाग में समायोजन किया गया है. इनमें से एक-एक कर्मी को आदेशपाल के रूप में सितंबर तक सभी हाईस्कूलों में तैनात कर दिया जायेगा.

उन्होंने यह भी बताया कि हाईस्कूलों में क्लर्क के खाली पद भी भरे जायेंगे. इसके लिए अगले माह अगस्त में कर्मचारी चयन आयोग को क्लर्कों की नियुक्ति के लिए प्रस्ताव भेजे जायेंगे. सभी जिलों से क्लर्कों के खाली पदों का ब्योरा शिक्षा विभाग की ओर से मांगा गया है. शिक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि राज्य के चार हजार हाईस्कूलों में एक-एक नाइट गार्ड भी बहाल किये जायेंगे, ताकि उपस्करों व अन्य सामानों की सुरक्षा हो सके. फिलहाल नाइट गार्ड को 4000 रुपये मंथली मानदेय दिये जायेंगे.

इसे भी पढ़ें : 8 लाख शिक्षकों पर संकट, 2 साल में नहीं किया बीएड तो चली जाएगी नौकरी