सरकार का बड़ा फैसला : हंड्रेड परसेंट फेल वाले स्कूलों के सभी टीचर होंगे डिसमिस

anjani singh
चीफ सेक्रेट्री अंजनी कुमार सिंह (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : इंटरमीडिएट टॉपर्स गणेश के फर्जीवाड़े मामले ने शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी है. सिस्टम में कितनी खामियां हैं, उसे उजागर कर दिया है. एडमिशन से लेकर परीक्षा, कॉपी मूल्यांकन व रिजलट तक में लोचा ही लोचा है.


बता दें कि सूबे में इंटरमीडिएट में 65 से 70 परसेंट तक बच्चे फेल कर गये हैं. सैकड़ों स्कूल-कॉलेज ऐसे हैं, जहां से कोई स्टूडेंट पास नहीं किया है. इसे बिहार सरकर ने गंभीरता से लिया है. इसके संकेत सूबे के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने मीडिया को दी है. उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जिन स्कूलों के स्टूडेंट्स इंटरमीडिएट परीक्षा में हंड्रेड परसेंट फेल रहे होंगे, वहां के टीचर बख्शे नहीं जाएंगे. वहां के सभी शिक्षक बर्खास्त किये जाएंगे. किसी भी टीचर को छोड़ा नहीं जायेगा और न ही कार्रवाई के लिए कोई लंबा प्रॉसेस अपनाया जायेगा. शो कॉज का जवाब देने का एक मौका देते हुए 15 दिनों के अंदर उन्हें बर्खास्त कर दिया जायेगा.



फाइल फोटो

गौरतलब है कि इंटरमीडिएट रिजल्ट में आयी गिरावट को लेकर पूरे बिहार के छात्र आक्रोशित हैं. लगभग 65 से 70 परसेंट तक स्टूडेंट्स के फेल किये जाने को लेकर वे पिछले पांच दिनों से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. कमोबेश यही स्थिति सूबे के विभिन्न जिलों की भी है. वहीं इसमें टॉपर गणेश के फर्जीवाड़े ने पूरे माहौल को ही बिगाड़ दिया. यहां की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल उठने लगा. इसे सीएम नीतीश कुमार ने गंभीरता से लिया तो शिक्षा मंत्री और बिहार बोर्ड अध्यक्ष के बीच भी तनातनी हो गयी. अब मुख्य सचिव ने भी इसे गंभीरता से लेते हुए सूबे की माध्यमिक-उच्च माध्यमिक शिक्षा में व्यापक परिवर्तन के संकेत दिये हैं.

मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने कहा है कि शिक्षकों के अलावा बेहद खराब रिजल्ट देनेवाले प्रखंडों के बीइओ पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी. बीइओ की भी जिम्मेवारी बनती है कि वे तमाम स्कूलों का रेगुलर इंस्पेक्शन करें और अपनी रिपोर्ट सरकार को नियमानुसार दें. उन्होंने कहा कि किसी स्कूल के सभी स्टूडेंट्स फेल हुए हैं, तो इसका मतलब है कि वहां पढ़ाई नहीं चल रही थी. लेकिन बीइओ ने इसकी रिपोर्ट सीनियर अफसरों को नहीं दी. गुणवत्तापूर्ण शिक्षा हर हाल में जरूरी है. बताया जाता है कि सूबे के 10 जिले ऐसे हैं, जहां के 654 स्कूल-कॉलेजों में कोई भी बच्चा पास नहीं किया है. हंड्रेड परसेंट बच्चे फेल हैं.

इसे भी पढ़ें : TOPPER SCAM : कागजों पर चलने वाले इस स्कूल का जानिए पूरा सच
TOPPER SCAM : जिस स्कूल से गणेश ने किया था मैट्रिक, वहां की प्रिंसिपल पति-बेटे संग गिरफ्तार
Topper Scam : नेताजी की फर्जी फैक्ट्री लेती थी फर्स्ट क्लास का ठेका