बिहार में शराब कंपनियों को SC से बड़ी राहत, 31 जुलाई तक मिली है मोहलत

लाइव सिटीज डेस्कः बिहार की शराब कंपनियों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. सुप्रीम कोर्ट ने शराब के पुराने स्टॉक को हटाने की तारीख बढ़ा दी है. अब 31 जुलाई तक के लिए शराब कंपनियों को राहत मिल गई है. बता दें कि सूबे में शराबबंदी के बाद शराब कंपनियों के बचे हुए स्टॉक को खत्म कर दिया जाएगा या निर्यात किया जाएगा. इस मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. शराब कंपनियों का कहना था कि उनके पास तकरीबन दो सौ करोड़ का स्टॉक बचा हुआ है. जिसको खपाने के लिए और वक्त की जरूरत है.

मालूम हो कि बिहार की शराब निर्माता कंपनियों ने अपना पुराना स्टॉक खत्म करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से और समय देने को कहा था. इस सिलसिले में कंपनियों ने अदालत में याचिका दायर की थी. शराब कंपनियों की ओर से अमित सिब्बल द्वारा दायर याचिका पर जस्टिस एल नागेश्वर राव और नवीन सिन्हा की खंडपीठ ने 29 मई को सुनवाई करने का फैसला किया था.

इससे पहले 31 मार्च को सर्वोच्च न्यायालय ने शराब कंपनियों को पुराना स्टॉक खत्म करने के लिए 31 मई तक का समय दिया था. इसके साथ ही उनसे शराबबंदी और पुराना स्टॉक खत्म करने को लेकर बिहार सरकार के निर्देश का पालन करने के लिए कहा गया था.

वकील अमित सिब्बल ने अदालत को बताया कि दो सौ करोड़ रुपये के स्टॉक को इतने कम समय में खत्म करना संभव नहीं है. बिहार सरकार ने 30 मार्च को शराब का पुराना स्टॉक अन्य राज्यों को निर्यात करने की इजाजत दे दी थी. सरकार ने इसके लिए 30 अप्रैल तक का समय दिया था. अब सुप्रीम कोर्ट से दो महीने का समय और मिल गया है. अब 31 जुुलाई तक शराब को खत्म करना होगा.

बिहार में शराब के स्टॉक पर सुप्रीम सुनवाई आज, कंपनियों ने मांगा है और वक्त
31 मई तक नहीं हट सकती बिहार की शराब, सुप्रीम कोर्ट में कंपनियों ने कहा
बिहार के इस जिले में AIDS ने मचाया कहर, 250 से अधिक बच्चे चपेट में