आज अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को अर्घ्य देंगे छठ व्रति, भक्ति के रंग में डूबा बिहार

लाइव सिटीज डेस्कः आस्था का महापर्व छठ को लेकर पटना सहित पूरा बिहार भक्ति के रंग में सराबोर हो गया है. चार दिवसीय इस अनुष्ठान के पहले दिन मंगलवार को जहां व्रतियों ने ‘नहाय-खाय’ के बाद संकल्प लेकर व्रत प्रारंभ किया, वहीं व्रत के दूसरे दिन बुधवार को खरना पर उल्लास दिखा. वहीं आज गुरुवार को छठ व्रति अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देंगे. इसके बाद शुक्रवार की सुबह उदीयमान भगवान भासकर को अर्घ्य के साथ ही छठ महापर्व का समापन हो जाएगा.

छठ को लेकर पूरा बिहार भक्ति के रंग में डूबा नजर आ रहा है. मुहल्लों से लेकर गंगा तटों तक पूरे इलाके में छठ पूजा के पारंपरिक व कर्णप्रिय गीत गूंज रहे हैं. राजधानी पटना की सभी सड़कें रंग-बिरंगी दूधिया रौशनी और आकर्षक तोरण-द्वारों से सजी हुई हैं. जबकि गंगा घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम हैं.

राजधानी की मुख्य सड़कों से लेकर गलियों तक की सफाई जारी है. आम से लेकर खास तक सभी सड़कों की सफाई में व्यस्त हैं. हर कोई छठ पर्व में हाथ बंटाना चाह रहा है. पटना सहित कई इलाकों में कई पूजा समितियों द्वारा भगवान भास्कर की मूर्ति स्थापित की गई हैं.

पूरा माहौल छठमय हो उठा है. शहर में 100 से ज्यादा घाटों के अलावा 45 तालाबों में छठव्रतियों के भगवान भास्कर को अर्घ्य देने की व्यवस्था की गई है. प्रशासन ने कई गंगा घाटों को असुरक्षित घोषित कर दिया है. जिसमें व्रतियों को नहीं जाने की चेतावनी दी जा रही है. जबकि अत्यधिक गहराई वाले क्षेत्रों की बैरेकेटिंग कर दी गई है.

उधर बिहार राज्य पुलिस मुख्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि पटना सहित पूरे राज्य में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. पटना के गंगा घाटों पर अतिरिक्त सुरक्षा-व्यवस्था की गई है. पटना की यातायात व्यवस्था में भी बदलाव किए गए हैं. इसके अलावा विभिन्न जगहों पर स्वयंसेवी संगठनों और स्थानीय लोग व्रतियों की मदद के लिए जुटे हुए हैं.