लालू की BJP विरोधी रैली पर जेडीयू का NO ! कहा- अभी नहीं मिला न्योता

लाइव सिटीज डेस्कः पहले से ही महागठबंधन मे एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार पर चल रहे तकरार के बीच अब एक नया बखेड़ा खड़ा हो गया है. हम बात कर रहे हैं 27 अगस्त को होने वाली आरजेडी की महारैली की. बीजेपी विरोधी लालू प्रसाद की इस रैली में अभी काफी वक्त है लेकिन सियासत अभी से उफान पर है. रैली को लेकर जदयू और आरजेडी के बीच तनातनी बढ़ गई है.

आरजेडी चीफ लालू प्रसाद की बीजेपी विरोधी रैली पर जदयू का बड़ा रिएक्शन सामने आया है. जदयू नेता आरसीपी सिंह ने बयान दिया है कि हम विपक्ष में नहीं हैं. न हम एनडीए में हैं और न ही यूपीए में. जहां तक रैली में शामिल होने का सवाल है, तो जदयू को अभी तक न्योता नहीं मिला है. जब मिलेगा तो जदयू विचार करेगा.

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक के अनुसार ‘भाजपा हटाओ, देश बचााओ’ रैली राजद का आयोजन है. जदयू बतौर पार्टी इसमें शामिल नहीं होगा. लेकिन, जदयू सुप्रीमो और मुख्‍यमंत्री रैली का निमंत्रण मिलने पर व्यक्तिगत तौर पर शामिल होने का फैसला कर सकते हैं. मालूम हो कि आज पटना में जदयू कार्यकारिणी की बैठक हो रही है. जिसमे रैली को लेकर चर्चा हो सकती है. उम्मीद है कि आज की बैठक में लालू की रैली पर कुछ फैसला हो सकेगा.

बता दें कि 27 अगस्त को होने वाली एन्टी बीजेपी रैली में सभी एनडीए विरोधी दलों को बुलाया गया है. आरजेडी की ओर से बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी पार्टी समेत कई दलों को न्योता भेजा गया है. वहीं डीएमके समेत ममता बनर्जी की टीएमसी को भी आने का बुलावा भेजा गया है. ममता बनर्जी ने इस मामले पहले ही हां कह दिया है. वहीं शरद पवार की एनसीपी को न्योता मिला है. उम्मीद है कि इस महारैली में बड़ी संख्या में एनडीए विरोधी नेता शामिल होंगे.

जदयू का यह बयान बिहार में महागठबंधन घटक दलों में मतभेद के उदाहरणों की नई कड़ी है. इसके पहले नोटबंदी, राष्‍ट्रपति चुनाव व जीएसटी जैसे बड़े राष्‍ट्रीय मुद्दाें पर जदयू का स्‍टैंड महागठबंधन से अलग रहा है. इसे लेकर महागठबंधन के अंदर का तनाव नेताओं के बयानों द्वारा समय-समय पर सामने आता रहा है.

यह भी पढ़ें-

रिटायर हो गए करोड़ों छात्रों को इंजीनियर बनाने वाले प्रोफेसर एचसी वर्मा
देखें ट्रांसफर लिस्टः RDDE-DPO-Secretary-Principal बदले हैं