रघु’वार’ : डमी सीएम हैं नीतीश कुमार, लालू के हाथ में है सरकार की डोर

लाइव सिटीज डेस्कः बिहार की सियासत में महागठबंधन में मची रार के बीच एक बड़ा बयान सामने आया है. ये बयान किसी पार्टी के प्रवक्ता ने नहीं बल्कि एक राज्य के मुख्यमंत्री ने दिया है. कहा है कि डमी सीएम हैं नीतीश कुमार. सरकार की डोर उनके हाथ में नहीं है. बस चेहरा है नीतीश कुमार का. इस बयान के बाद से बिहार की राजनीति में उबाल है. दरअसल ये बड़ा बयान पड़ोसी राज्य झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दिया है.

झारखंड के सीएम रघुवर दास ने राजधानी पटना में ये बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि सीएम नीतीश कुमार की सरकार में उनकी नहीं चलती. बिहार में सत्ता की डोर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के हाथों में है. उन्हीं की मर्जी से नीतीश सरकार में फैसले होते हैं. उन्होंने कहा कि अब बिहार के हालात ऐसे हो गए हैं कि यहां की जनता खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है.

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सीएम नीतीश कुमार को सीधा टारगेट किया है. उन्होंने कहा कि जो जैसी करता है वैसा ही भरता है. महागठबंधन की सरकार से जनता खुश नहीं है. लालू प्रसाद के दबाव से ये सरकार चल रही है. उन्होंने कहा कि जिस तरह मनमोहन सरकार की बागडोर सोनिया गांधी के हाथ में थी, ठीक वैसे ही नीतीश सरकार की बागडोर लालू प्रसाद के हाथ में है.

आरजेडी चीफ लालू प्रसाद पर हमला बोलते हुए सीएम रघुवर दास ने कहा कि लालू भ्रष्टाचारी हैं. वो अपने भ्रष्टाचारों की वजह से ही पटना-टू-रांची का चक्कर काट रहे हैं. अभी उनकी और उनके परिवार की मुश्किलें और भी बढ़ने वाली हैं. अब लालू प्रसाद के भ्रष्टाचारों की वजह से उनके परिवार के लोग भी पटना-टू-दिल्ली का चक्कर लगाएंगे.

बता दें कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास आज रविवार को पटना पहुंचे हैं. दरअसल झारखंड सरकार के ढाई साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक समारोह में शामिल होने पटना आए हैं. पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित तेली साहू समाज के कार्यक्रम में रघुवर दास सहित कई बड़े नेता शामिल हुए. कार्यक्रम में देशभर के चुने गए जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया. साथ ही झारखंड सरकार के एक हजार दिन पूरे होने पर मुख्यमंत्री रघुवर दास का अभिनंदन किया गया. नेपाल के केंद्रीय मंत्री प्रभु शाह भी कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे.

यह भी पढ़ें-

तेजस्वी का तंज : कहा- Dear RSS तनिक एको मंत्र ऐसा फूँको ना

महागठबंधन के पक्ष में शरद यादव, लालू-नीतीश को दी नहीं तोड़ने की सलाह