झमाझम बारिश के बीच सावन ने मारी इंट्री, शिवालयों में उमड़ी भक्तों की भीड़

लाइव सिटीज डेस्कः झमाझम बारिश के बीच सावन ने इंट्री मारी है. इसके साथ ही शिवालयों और मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी है. हर-हर महादेव के जयकारों से माहौल भक्तिमय हो गया है. मंदिरों के निकट फूल मालाओं और बेलपत्रों की बिक्री बढ़ गई है.

बच्चे से लेकर बूढ़े तक भोलेनाथ की पूजा-अर्चना के लिए मंदिरों में पहुंच रहे हैं. खास कर महिलाओं की खूब भीड़ देखी जा रही है. बता दें कि इस सावन का इसलिए भी अधिक महत्व है कि 17 साल के बाद सावन की शुरुआत सोमवार से और समापन भी सोमवार से ही होगा.

वहीं आज से ही विश्वप्रसिद्ध कांवर यात्रा भी शुरू हो गई है. इसे लेकर भागलपुर के सुल्तानगंज में कांवरियों की जबरदस्त भीड़ है. गुरु पूर्णिमा पर लगभग 80 हजार कांवरियों ने उत्तर वाहिनी गंगा से जल भरा. और वे बाबाधाम की ओर रवाना हो गए. इन कांवरियों में लगभग 20 हजार डाकबम शामिल हैं. बता दें कि सुल्तानगंज की उत्तरवाहिनी गंगा का जल भर कर कांवरिया झारखंड के देवघर में बाबा बैद्धनाध पर जलाभिषेक करते हैं.

इधर राजधानी पटना में भी भक्तिमय माहौल देखने को मिल रहा है. पटना में बोरिंग रोड चौराहा, राजवंशीनगर समेत अन्य मंदिरों में सुबह से ही भारी भीड़ उमड़ रही है. शिव मंदिरों को खूब सजाया गया है. झालर बत्तियों की रौशनी में मंदिरों की खूबसूरती देखते ही बन रही है.

सावन माह में वर्षो बाद ऐसा संयोग बन रहा है. सावन में आमतौर पर चार सोमवार पड़ते हैं. लेकिन इस साल पांच सोमवार पड़ रहे हैं. मान्यता है कि सावन में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. इनकी पूजा से दैविक, दैहिक और भौतिक कष्टों से मुक्ति मिलती है. निर्धन को धन और सभी कष्ट दूर हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें-

इसलिए भोलेनाथ को प्रिय है सावन मास

सावन के आते ही सज गया है मेहंदी का बाजार