36 में बदले रिश्तेः IAS आनंद किशोर पर फटा Minister अशोक चौधरी का गुस्सा

पटनाः  नतीजे के दिन मतलब 30 मई को ही लाइव सिटीज ने दुनिया को बता दिया कि इंटर आर्ट्स का स्टेट टॉपर गणेश कुमार फर्जी है. लाइव सिटीज की स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम के पास मौजूद हर सबूत चीख-चीख कर फर्जीवाड़े को प्रमाणित कर रहे थे. पर, दो दिनों तक सरकार और बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड का सिस्टम नकारता रहा. बचाव को दलित कार्ड तक खेला गया. आखिरकार,2 जून को सीएम नीतीश कुमार के निर्देश पर एक्शन हुआ. लाइव सिटीज की पड़ताल पुख्ता साबित हुई. गणेश गिरफ्तार किया गया . अब यह सच भी सामने है कि दलित कार्ड से बचाव झूठ का ड्रामा था,क्योंकि गणेश दलित है ही नहीं.

 

लाइव सिटीज की लगातार रिपोर्ट पर हुई कार्रवाई के बाद कई तरीकों के साइड इफेक्ट्स देखने को मिल रहे हैं. शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी का बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर से खुला पंगा हो गया है. आईएएस आनंद किशोर मुख्य मंत्री नीतीश कुमार के भरोसे के अधिकारी हैं. 2016 में लालकेश्वर ब्रांड के टॉपर्स घोटाले के बाद इन्हें बोर्ड का चेयरमैन बनाया गया था. वे पटना के डिविजनल कमिश्नर के साथ सूबे के जेल आईजी भी हैं. आगे पढ़ने के पहले यह जान लें कि कल शुक्रवार को अशोक चौधरी स्टेट कैबिनेट की बैठक में भी भाग लेने को नहीं गए थे. इसे लेकर स्टेट के पोलिटिकल कॉरिडोर में फुसफुसाहट शुरु हो गई थी. हालांकि बाद में यह बताया गया कि चौधरी की बेटी दिल्ली में बीमार है और वे देखने को गए हैं.

खैर,फर्जी टॉपर गणेश प्रकरण को लेकर हुई भारी फजीहत के बाद दृश्य ऐसे बदले हैं कि अशोक चौधरी और आनंद किशोर का रिश्ता 32 से 36 का हो गया है. पहले दोनों फर्जी गणेश के सही होने का दावा कर रहे थे. पर,गणेश की गिरफ्तारी के बाद चौधरी ने भड़ास आनंद किशोर पर ही निकाल दी है. मीडिया से कहा है कि आनंद किशोर जांच के घेरे में आ गए हैं . दोषी कोई नहीं बचेगा. बोर्ड ने उनके निर्देश का ठीक से पालन नहीं किया,इस कारण इतनी बड़ी चूक हो गई.

ganesh

मंत्री अशोक चौधरी कह रहे हैं कि उन्होंने आनंद किशोर को कहा था कि भले दो दिन और लग जाये,पर सब ठीक से देख लीजिए. लेकिन ऐसा नहीं किया गया. टॉपरों के फिजिकल वेरिफिकेशन की बात भी कही थी, किन्तु अनुपालन नहीं हुआ. सब कुछ ठीक होने की गलत जानकारी दी गई . इसके कारण ही इतना बड़ा तमाशा हो गया.

दूसरी ओर आपको यह भी बता दें कि मंत्री के गुस्से के बाद भी बोर्ड के चेयरमैन आनंद किशोर अपने को सही बता रहे हैं. कह रहे हैं- बोर्ड के सारे एफर्ट ठीक थे. गड़बड़ी दूसरे कारणों से हुई है,जिसके आधार पर कार्रवाई की गई है.

यह भी पढ़ें-

फर्जी गणेश का काला सच : उम्र-42 साल, 2 बच्चों का बाप, चिटफंड कंपनी का पुराना स्टाफ

गणेश का रिजल्ट रद होने के बाद अब मधुबनी की नेहा है इंटर आर्ट्स की स्टेट टॉपर

BIG BREAKING : टॉपर गणेश का रिजल्ट रद, मुकदमा दर्ज

फर्जी टॉपर को पटना पुलिस ने किया गिरफ्तार, जाएगा जेल

फर्जी टॉपर देनेवाले भाजपा नेता के प्रिंसिपल बेटे की होगी गिरफ्तारी