रोहतास में जहरीली शराब ने ले ली 4 की जान ! कई की हालत गंभीर

लाइव सिटीज डेस्कः बिहार में शराबबंदी कानून लागू है. शराब माफियाओं पर कार्रवाई भी खूब हो रही है. इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है रोहतास जिले से. बताया जा रहा है कि जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हो गई है. इस घटना के बाद से जिला प्रशासन के होश उड़े हुए है. जांच की बात की जा रही है. बहुतों की हालत भी गंभीर है जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

मिल रही जानकारी के मुताबिक रोहतास जिले के कछवा थानाक्षेत्र से यह मामला सामने आया है. दरअसल दनवार गांव में जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हो गई है. लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि इन लोगों की मौत कुछ जहरीली चीज खाने की वजह से हुई है. वहीं इस घटना में कई अन्य लोगों की भी हालत खराब बताई जा रही है. जिनका इलाज चल रहा है.

सूत्रों के मुताबिक गांव के कुछ लोग अचानक बिमार पड़ गए. जिनमें से देखते ही देखते चार लोगों की हालत खराब होने लगी. जब तक लोग उन्हें डॉक्टर के पास ले जाते. उनकी मौत हो गई. वहीं इस घटना के बाद से कई लोग गंभीर रूप से बिमार हैं. डॉक्टर भले ही इस बात से इनकार कर रहे हैं कि मौत के पीछे जहरीली शराब नहीं है, लेकिन स्थानीय लोगों की माने तो उनकी मौत शराब पीने से ही हुई है.

बताया जा रहा है कि कथित तौर पर जहरीली शराब पीने से हुई मौत मामले ने जिला प्रशासन में हड़कंप मचा दिया है. जांच की बात सामने आ रही है. गौरतलब हो कि रोहतास जिले में इन दिनों शराब माफिया कितना एक्टिव है ये किसी से छिपा नहीं है. इन शराब माफियाओं के आतंक की खबरें हर रोज सुर्खियों में रहती हैं. ऐसा नहीं है कि पुलिस इसको लेकर कार्रवाई नहीं कर रही. छापेमारी भी हो रही है और गिरफ्तारियां भी. लेकिन इस बीच चार लोगों की मौत की खबर ने रोहतास जिला प्रशासन के सामने बड़ी मुसीबत खड़ी कर दी है.

इस बीच जहरीली शराब से हुई मौत पर बिहार के वरिष्ठ पत्रकार कन्हैया भेलारी, जोकि रोहतास के ही रहने वाले हैं, उन्होंने भोजपुरी भाषा में ही बड़ी तल्ख टिप्पणी की है. उन्होंने इस बारे में लिखा है –

‘70 रूपीया के चीमीकी, आ 5 रूपीया के निमीकी, जा झार के, आउर पाउच फार के
इ गाना गाके आउर जहरीला देशी पाउच गटका के कल्हे चार गो लोग सूरधामपुर चल गइल. ऐगो के हालत अभियो खराब बा. डिहरी भीरी नारायण हास्पीटल में दवाई होत बा. घटना रोहतास जिला के दनवार गावॅं में घटल बा. सूचना के मुताबिक छठे के रात से धकाधक पिअत रहन जा. कल सुबहो खानी दारू के ही पारन भईल रहे.’

‘दू महीना पहीले दुगो पुलिस वाला भी सटले काराकाट थाना में नकली सोमरस पियला से टपकल रहन जा. बाकी दारूबंदी के सफल कहे के नाम पर मरला के कारण दुसर बतावल गईल. जवार के लोग-बाग कहत बा कि ‘जब ढ़ींण निकली त छुपवला से कबो ना नू छुपी. 70 रूपया के चीमीकी आउर 5 रूपया के निमीकी सोन के किनारे वाला ढ़ेर गाॅंव में मिलत बा. पिये ओला गनो गुनगुनात बाडसन कि जा झार के आउर पाउच फार के’.