गंगा दशहरा पर श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी, घाटों पर उमड़ा सैलाब

पटना(जुलकर नैन) :  आज गंगा दशहरा है. पटना के गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिल रही है. पटना सिटी त्रिवेणी घाट, कटैया घाट, भद्र घाट, खाजेकला घाट, टेढ़ी घाट, गाय घाट, कंगन घाट पर गंगा स्नान करने वाले श्रधालुओं की भारी भीड़ देखी जा रही है. वहीं श्रद्धालु गंगा में डुबकी लगा कर भगवान विष्णु और मां गंगा की आराधना कर रहे हैं.

गंगा दशहरे के दिन लोग गंगा या फिर किसी पवित्र तीर्थ स्थान में स्नान और दान पुण्य करते हैं. श्रद्धालु गंगा दशहरे पर केला, नारियल, अनार, सुपारी, खरबूजा, आम, जल भरी सुराई, हाथ का पंखा आदि चीजों का दान करते हैं.

इस बार लंबे समय बाद गंगा दशहरे पर हस्त नक्षत्र पड़ रहा है. जो शनिवार को दोपहर 1:26 बजे से रविवार की सुबह तक रहेगा. पंडित सुनील शास्त्री की मानें तो हस्त नक्षत्र में सच्चे मन से गंगा स्नान व पूजन से व्यक्ति के मन, वचन और कर्म तीनों प्रकार के पापों का नाश हो जाता है.

गंगा दशहरा के दिन भगवान शिव का अभिषेक और भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है. साथ ही मोक्षदायिनी मां गंगा का पूजन-अर्चन भी किया जाता है. गंगा दशहरा के दिन किसी भी नदी में स्नान करके दान और तर्पण करने से 10 प्रकार के पापों से मुक्ति मिल जाती है.

कैसें करें पूजन

स्कंदपुराण के अनुसार गंगा दशहरे के दिन व्यक्ति को किसी भी पवित्र नदी पर जाकर स्नान, ध्यान तथा दान करना चाहिए. गंगा दशहरा के दिन गंगा या किसी पवित्र जल में खड़े होकर ‘ओम नम: शिवाय, नारायनाय दशहराय गंगाये नम:’ का दस बार जाप करें.

वीडियो देखें-

अगर किन्हीं कारणवश आप गंगा स्नान को नहीं जा सकते हैं तो घर में ही स्नान के पानी में गंगाजल का स्नान करें और लोटे से सिर पर पानी डालते समय हर-हर गंगे का उच्चारण करें. इसके बाद भगवान सूर्य को जल दें और दान-पुण्य भी करें. ज्योतिषियों का मानना है कि ऐसा करने से आपके समस्त कष्ट दूर हो जाएंगे और मनवांछित फल मिलेगा.

यह भी पढ़ें-
आ रहा है सावनः जान लें देवघर में अब ऐसे नहीं होंगे दर्शन, हो गया फैसला
रमजान में नेक काम करने का मिलता है 70 गुना ज्यादा फल
रहमतों और बरकतों का महीना है रमजान, इसके उद्देश्यों को समझें