2000 करोड़ के घोटाले का पर्दाफाश करने वाले IAS की मौत पर सस्पेंस बरकरार

लाइव सिटीज डेस्क : आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत का मामला अब गहराता जा रहा है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से भी उनकी मृत्यु के मामले में स्थिति स्पष्ट नहीं हो सकी है. रिपोर्ट के मुताबिक IAS अनुराग तिवारी की मौत दम घुटने से हुई है. हालांकि स्पष्ट तौर पर सिविल अस्पताल के डॉक्टर भी कुछ नहीं बता रहे हैं. डॉक्टरों की टीम ने बताया कि उनके हार्ट, ब्लड और विसरा को सुरक्षित कर लिया गया है. रिपोर्ट आने पर कारण और स्पष्ट हो पाएगा.

लेकिन आईएएस अनुराग की संदेहास्पद हालात में हुई मौत को उनके परिजन व अन्य लोग हत्या बता रहे हैं.  आईएएस अनुराग तिवारी के बड़े भाई आलोक तिवारी ने बताया है कि अनुराग का नाम ईमानदार अधिकारियों में लिया जाता था. वह काम के प्रति बेहद समर्पित रहते थे. आलोक का कहना है कि अनुराग ने फूड एंड सप्लाई डिपार्टमेंट में दो हजार करोड़ रुपये का घोटाला पकड़ा था.

उन्होंने इसकी रिपोर्ट बनाकर शासन को भेजी थी. पर, विभाग के कुछ अधिकारी और सत्ता पक्ष के नेता इस रिपोर्ट को दबाने की कोशिश कर रहे थे. आलोक का दावा है कि अनुराग ने घोटाले सम्बंधित फाइलें और जांच रिपोर्ट सीबीआई को प्रेषित कर दी थी. इस पर भ्रष्ट अफसर व उनके गुर्गे अनुराग को धमकी दे रहे थे.

आलोक ने बताया कि कनार्टक सरकार के भ्रष्ट अधिकारी अनुराग को परेशान कर रहे थे. इसलिए उसने कनार्टक से हटने का मन बना लिया था. करीब तीन महीने पहले अनुराग ने केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर अपना कैडर बदलने की मांग की थी. पर, केन्द्र सरकार द्वारा इस प्रार्थना पत्र पर अब तक कोई निर्णय नहीं लिया गया.

यह भी पढ़ें-  पोस्टमार्टम रिपोर्ट : दम घुटने से हुई IAS अनुराग की मौत
बर्थ-डे के दिन ही हो गई आईएएस की मौत, प्यार से लोग कहते थे वाटरमैन