फॉरेन मिनिस्ट्री ने कहा- नहीं मिली हाफिज-दाऊद को भारत लाने की कोई रिक्वेस्ट

लाइव सिटीज डेस्कः आरटीआई के जरिए एक बड़ा खुलासा हुआ है. मामला दाऊद और हाफिज सईद के भारत लाने से जुड़ा है. आरटीआई के जरिए पूछे गए सवाल पर फॉरेन मिनिस्ट्री ने  जो कहा है, उसे सुन कर आप चौंक जाएंगे. विदेश मंत्रालय ने कहा है कि उसे दाऊद इब्राहिम और हाफिज सईद को भारत लाने के लिए जांच एजेंसियों की तरफ से कोई रिक्वेस्ट नहीं मिली है.

सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत विदेश मंत्रालय के प्रत्यर्पण प्रकोष्ठ के सीपीवी खंड से यह जानकारी प्राप्त हुई है. मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, विदेश मंत्रालय को हाफिज सईद और दाउद इब्राहिम के प्रत्यर्पण या भारत लाने के बारे में भारत की संबंधित जांच एजेंसियों से कोई आग्रह प्राप्त नहीं हुआ है.सूचना के अधिकार के तहत विदेश मंत्रालय से पूछा गया था कि मुम्बई आतंकी हमले के सरगना हाफिज सईद और 1993 के मुम्बई सीरियल बम विस्फोट मामले में वांछित दाउद इब्राहिम के प्रत्यर्पण या भारत लाने के बारे क्या कार्रवाई की गई है.

इस बारे में एक सवाल के जवाब में इसी साल अप्रैल में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि इसमें कोई शक नहीं है कि वह अभी भी कराची में है. पिछले 10 वर्षों में भारत ने दाऊद के बारे में पाकिस्तान को कई डोजियर भेजे हैं. वह मुम्बई सीरियल बम विस्फोट समेत 31 मामलों में आरोपी है.

कौन है दाउद इब्राहिम?

दाऊद इब्राहिम 1993 में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले का मुख्य आरोपी है. इन धमाकों में करीब 260 लोगों की मौत हुई थी जबकि 700 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे. धमाकों के बाद दाउद भारत से भाग निकला था. उसके बाद से ही यह माना जा रहा है कि दाऊद पाकिस्तान में है.हाल ही में यह खबर आई थी कि दाऊद को हार्ट अटैक के बाद कराची के आगा खान हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है और उसकी हालत नाजुक है. उसकी ब्रेन सर्जरी की बात सामने आई थी. दाऊद का नाम इंटरपोल की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में भी शामिल है. उस पर धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश और एक आपराधिक गिरोह ऑपरेट करने का आरोप है. अमेरिका ने 2003 में इसे ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया था.

हाफिज सईद की हिस्ट्री

आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का चीफ है हाफिज सईद . ये एक दूसरे आतंकी संगठन लश्करे-तैयबा का -फाउंडर भी है. इन दोनों संगठनों का भारत में कई आतंकी हमलों में हाथ पाया गया है. हाफिज के सिर पर अमेरिका ने 1 करोड़ रुपए का ईनाम घोषित कर रखा है.26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड है हाफिज , इसमें 166 लोगों की मौत हुई थी. फिलहाल ये पाक में नजरबंद है. पाक सरकार ने हाफिज का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ECL) में भी शामिल किया है. यानी यह पाक छोड़कर नहीं जा सकता. पाकिस्तान ने हाफिज सईद को आतंकी भी माना है. पंजाब प्रोविंस की सरकार ने सईद का नाम एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) के 4th शेड्यूल में शामिल कर रखा है.

यह भी पढ़ें-
योगी राज में शहीद के परिजनों से ये कैसा मज़ाक
कश्मीर के युवाओं ने दिया आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब, सेना में भर्ती को दिल से दौड़े
भोजपुर के डॉक्टर के बेटे की बिहटा में कूच-कूच हत्या