आखिर क्यों जड़ दिया गया पटना के काली मंदिर के गेट पर ताला

लाइव सिटीज डेस्कः जिस मंदिर का जिक्र हम कर रहे हैं, उस मंदिर से पटनावासियों का गहरा लगाव है. शायद ही कोई पटना में रहने वाला व्यक्ति इस मंदिर के बारे में नहीं जानता होगा. जी हां.. हम बात कर रहे हैं काली घाट मंदिर की. पटना यूनिवर्सिटी प्रशासन ने इस मंदिर के गेट पर ताला जड़ दिया है. लोगों का आना जाना बंद है.

दरअसल पीयू में अतिक्रम हटाने का अभियान शुरू हुआ. पहले दिन बड़ी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी में दरभंगा हाउस को अतिक्रम मुक्त किया गया. लेकिन पीयू प्रशासन ने अतिक्रम के साथ ही काली मंदिर जाने का रास्ता बंद कर दिया. पटना के प्रसिद्ध दरभंगा हाउस के काली मंदिर के गेट पर ताला जड़ दिया गया.

पीयू प्रॉक्टर ने मंदिर के मुख्यद्वार पर ताला जड़ कर एक चाबी खुद और दूसरी चाबी मंदिर के पंडित दीनानाथ झा को दे दिया. मंदिर आने जाने वाले को वंशी घाट और कदम घाट से आने-जाने के कहा गया है. मुख्य द्वार पर बगल से जाने का संकेत भी दे दिया है.

इधर मंदिर का रास्ता बंद होने पर विरोध का स्वर गुंजने लगा है. लोगों ने कहा कि अतिक्रमण हटाने के नाम पर मंदिर का गेट बंद करना कहीं से सही नहीं है. अतिक्रमण हटाने का कोई विरोध नहीं करता, लेकिन मंदिर में ताला लाने का लोग विरोध करेंगे.

दरभंगा हाउस में अतिक्रम हटाने के दौरान पीयू इंजीनियर और प्रॉक्टर आपस में भीड़ गये. पीयू प्रॉक्टर इंजीनियर को बिना बताये ही अतिक्रम के लिए जेसीबी और मजदूर को बुला लिया था. काफी देर तक दोनों आपस में तूतू-मैं-मैं होती रही. इसके बाद अतिक्रमण हटाने का सिलसिला शुरू हुआ.

यह भी पढ़ें-

RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू

PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN

अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स

मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)