लालू प्रसाद की सीबीआई कोर्ट में हुई पेशी, हाजिरी लगा लौटे घर

Lalu

लाइव सिटीज डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की आज पटना के सीबीआई कोर्ट में पेशी की गयी. यह पेशी चारा घोटाला में भागलपुर कोषागार से संबंधित मामले में हुई है. हालांकि लालू प्रसाद ने इस दौरान मीडिया से कोई बात नहीं की. मंगलवार की सुबह सीबीआई कोर्ट में पेश होने के बाद लालू प्रसाद अपने आवास लौट गये.

बता दें कि चारा घोटाले के कई मामलों में एक मामला भागलपुर कोषागार से भी जुड़ा है. इसमें जानवरों की दवा की राशि के गबन का मामला है. बताया जाता है कि 47 लाख की राशि का इस कोषागार से हेरफेर किया गया था. इसे लेकर सीबीआई ने 1996 में यह मामला दर्ज किया था.

Lalu

दरअसल चारा घोटाला लालू प्रसाद का पीछा नहीं छोड़ रहा है. कभी झारखंड तो कभी बिहार और कभी सुप्रीम कोर्ट में इसके कारण चक्कर लगाना पड़ रहा है. इसी कड़ी में मंगलवार की सुबह पटना के सीबीआई कोर्ट में लालू प्रसाद पेश हुए. हाजिरी दी और फिर वे अपने घर लौट गये. इस दौरान उन्होंने मीडिया से किसी तरह की कोई बात नहीं की. मालूम हो कि भागलपुर से जुड़े इस चारा घोटाले के मामले में अब तक 44 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर किया गया है. इनमें जानकारी के अनुसार 15 आरोपियों की मौत हो चुकी है, जबकि 29 के खिलाफ ट्रायल चल रहा है. सूत्रों की मानें तो इस मामले में अब तक 34 गवाहों को पेश किया गया है.

हालांकि मंगलवार को लालू प्रसाद के वकील ने बताया कि मामले की सुनवाई में सीबीआई की ओर से डॉक्यूमेंट्स पेश करने में लेटलतीफी की जा रही है. बता दें कि पटना सीबीआई कोर्ट में मंगलवार को पेशी के बाद अब चारा घोटाले के झारखंड के देवघर से जुड़े एक मामले में वे 9 जून को रांची सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे. देवघर का मामला भी वर्ष 1996 में ही दर्ज कराया गया था. इस मामले में कांड संख्या RC 64A/96 दर्ज किया गया था. गौरतलब है ​कि वर्ष 96 में चारा घोटाला के रूप में बिहार का सबसे बड़ा घोटाला सामने आया था. इसमें पशुओं को खिलाए जाने वाले चारे के नाम पर 950 करोड़ रुपये सरकारी खजाने से फर्जीवाड़ा करके निकाल लिये गये थे. इसमें 44 से अधिक मामले दर्ज किये गये थे. इन्हीं में भागलपुर और देवघर का मामला भी शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : मुश्किलें बढ़ीं : लालू प्रसाद को CBI कोर्ट में हाजिर होने का आदेश

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*