आइटी रेड पर बोले लालू, 22 ठिकानों के नाम तो बताओ, मीडिया पर भी साधा निशाना

lalu

पटना : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के 22 ठिकानों पर इनकम टैक्स के छापे का मामला चार दिनों के बाद भी बिहार के साथ साथ पूरे देश की सियासत को गरम किये हुए है. इस छापे को ले राजनीतिक गलियारों में तरह-तरह के सवाल उठाये जा रहे हैं. लेकिन इस पर चर्चा ज्यादा हो रही है कि आखिर छापा कहां-कहां पड़ा. इसी सवाल पर शुक्रवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने अपने बेबाक बोल में भाजपा से लेकर मीडिया तक पर अपनी भड़ास निकाली. कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार पांच साल तक नहीं चल पायेगी.

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने शुक्रवार को एक चैनल से बात करते हुए वही सवाल उठाया कि आखिर मेरे 22 ठिकाने कौन कौन से हैं, जहां इनकम टैक्स ने छापा मारा. रेड से संबंधित नोटिस तो मिलना चाहिए. उन्होंने इसे लेकर मीडिया पर भी जम कर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि मीडिया ने हमारी इमेज को डैमेज करने का काम किया है. लालू प्रसाद ने कहा कि दरअसल भाजपा की ओर से मेरी छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है. सबको मालूम हो गया कि हमें घेरने की कोशिश की जा रही है.

इसे भी पढ़ें : वह सब कुछ, जो आप जानना चाहते हैं लालू प्रसाद से जुड़े IT रेड के बारे में

भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि हमारे बेटों को गलत तरीके से बदनाम किया जा रहा है. हमारे परिवार के लोगों पर गलत आरोप लगाया जा रहा है. हम चाहें तो आरोप लगाने वालों पर मानहानि का केस दर्ज करा सकते हैं. लेकिन, हमने ऐसा नहीं किया. सुशील मोदी समेत अन्य भाजपा नेता हमारे खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक गये, लेकिन हमारी आवाज को वे बंद नहीं करा सकते हैं. हमने पूरे विपक्ष को अगस्त में पटना बुलाया है. 27 अगस्त को हमारी रैली है. भाजपा की साजिश को कामयाब नहीं होने देंगे. उन्होंने कहा कि भाजपा हटाओ, देश बचाओ की हमारी रैली से भाजपा घबरा गयी है. उन्होंने दावा किया कि केंद्र सरकार पांच साल पूरा नहीं कर पायेगी.

lalu

लालू प्रसाद ने कहा कि बीजेपी तो अब गयी. व्यापमं से लेकर अन्य घोटालों पर उसकी चुप्पी बनी रहती है. विकास कार्यों में फेल बीजेपी गलत गलत मुद्दों से जनता को भटकाना चाहती है. उन्होंने कहा कि गाय, भैंस, मंदिर, ​मस्जिद जैसे मुद्दों से जनता को लपटाये हुए है. जनता जल्द ही सबक सिखा देगी. इसमें कुछ मीडिया भी उसका साथ दे रही है और हमें बदनाम करने की साजिश रचती रहती है.

गौरतलब है कि 16 मई को अचानक खबर आयी थी कि लालू प्रसाद के दिल्ली व गुड़गांव स्थित 22 ठिकानों पर छापेमारी की गयी थी. इसे लेकर बिहार की सियासत में अचानक हलचल मच गयी. इसे लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर शु्रू हो गया. लालू प्रसाद ने भी ट्वीट से ही जवाब दिया. लेकिन शुक्रवार को लालू प्रसाद ने पहली बार आइटी रेड मामले में सामने आये और भाजपा से लेकर मीडिया तक को निशाना बनाया.