राजद व भाजपा का ‘पॉलिटिकल वार’ दिखेगा बैठकों में!

Lalu

पटना : बिहार का राजनीतिक गलियारा शुरू से ही राजद और भाजपा के बीच ‘पॉलिटिकल वार’ से गरम रहा है. पर, इन दिनों राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद व भाजपा के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के आरोप-प्रत्यारोप पर सियासत का तापमान कुछ ज्यादा ही बढ़ा हुआ है. इसी बीच राजद का प्रशिक्षण शिविर राजगीर, तो भाजपा का ‘राजनीतिक मंथन’ किशनगंज में शुरू हो रहा है. दोनों के तीन दिवसीय कार्यक्रम में क्या निर्णय लिये जाते हैं, यह तो अभी नहीं कहा जा सकता है. लेकिन, लालू फैमिली और सुशील मोदी के बीच चल रहे आरोप प्रत्यारोप भी छाये रहने की उम्मीद है.



राष्ट्रीय जनता दल का राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर राजगीर में मंगलवार से शुरू हो रहा है. दोपहर बाद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद इसका उद्घाटन करेंगे. कार्यक्रम की सारी तैयारी हो गयी है. राजद के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामचंद्र पूर्वे के नेतृत्व में सोमवार से ही पार्टी के नेता राजगीर पहुंचने लगे हैं. बाकी आज दोपहर तक पहुंच जायेंगे. इस संबंध में राजद के प्रदेश प्रवक्ता प्रगति मेहता ने लाइव सिटीज को बताया कि राजद के इस तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यक्रम में दो दिनों का प्रशिक्षण शिविर होगा और अंतिम दिन राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक होगी. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी की नीति और सिद्धांत से कार्यकर्ताओं को पूरी तरह लैस करने के लिए ही प्रशिक्षण शिविर हो रहा है.

इसे भी पढ़ें :  सुमो अटैक प्रॉपर्टी लेकर लालू प्रसाद ने बनाये मंत्री 
लालू प्रसाद ने सुमो से पूछा- बताओ RK मोदी तुम्हारा मौसा है या फूफा…

उधर मंगलवार से ही भारतीय जनता पार्टी की तीन दिवसीय बैठक हो रही है. भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी की होनेवाली इस बैठक में पार्टी मुस्लिम बहुल सीमांचल में अपनी जमीन और अधिक मजबूत करने पर बल देगी. इसके पीछे बताया जा रहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव में किशनगंज इलाके में भाजपा को बहुत ज्यादा लॉस हुआ था. ऐसे में वर्ष 2019 में होनेवाले लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी यहां खुद को मजबूत करना चाहती है. इसमें प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी समेत कई केंद्रीय मंत्री भी भाग लेंगे. पार्टी सूत्रों की मानें तो इसमें प्रदेश पार्टी कार्यकारिणी की बैठक में 300 से अधिक सदस्य भाग लेंगे. बैठक में 2019 के चुनावों को लेकर संगठन की मजबूती के लिए रणनीति बनायी जाएगी.

Lalu

बहरहाल, बिहार में इन दिनों लालू फैमिली और सुशील मोदी के आरोप-प्रत्यारोप को लेकर सियासत कुछ अधिक ही गरम है. मॉल, मिट्टी से लेकर बेनामी संपत्ति तक पर वार-पलटवार किये जा रहे हैं. राजनीतिक गलियारों में हो रही चर्चा की मानें तो भले ही राजद व भाजपा अपनी-अपनी बैठकों को लेकर सिद्धांत की बात करे, लेकिन लालू फैमिली और सुशील मोदी के बीच चल रहे ‘पॉलिटिकल वार’ भी बेशक छाया रहेगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है. यह मुद्दा अभी राजनीतिक गलियारे में हॉट टॉपिक बना हुआ है.