मां ने 2 लाख में बेच दी अपनी बिटिया को…

सरपंच से गुहार लगाती पीड़िता.

समस्तीपुर /रोसड़ा (राजू गुप्ता) : अनुमंडल अंतर्गत विभूतिपुर प्रखंड के बोरिया गांव में एक कलयुगी मां के द्वारा 2 लाख में अपनी नाबालिग बेटी का सौदा करने का एक मामला प्रकाश में आया है. इतना ही नहीं, पीड़िता द्वारा नाकर-नुकर करने पर जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है. इस घिनौने काम में मां के साथ-साथ मौसेरी बहन, ननिहाल के रिश्तेदार भी शामिल हैं.



जानकारी के अनुसार विभूतिपुर थाने के बोरिया पंचायत के बाेरिया गांव में विगत 6 फरवरी 2017 को पीड़िता छात्रा की मां पमपम देवी, मौसेरी बहन चुलबुल देवी, रोहित एवं सुमित ने बहला-फुसलाकर उसे बच्ची को ननिहाल सुजानपुर ले गया, वहां बेगूसराय जिले के तेघड़ा निवासी 40 वर्षीय टूना सिंह के साथ सौदे के मुताबिक दो लाख रुपये लेकर नाबालिग छात्रा की शादी कर दी गई. पीड़िता छात्रा के विरोध करने पर ननिहाल बालों से उसे यातनाएं झेलनी पड़ीं.

छात्रा ने अपनी जान बचा कर किसी तरह पैतृक गांव बोरिया पहुंचा वहां भी पीड़िता की मां, मौसेरी बहन, ससुराल वाले आकर जान मारने की धमकी भी दी. वहां से जान बचाकर पीड़िता अपनी बहन के ससुराल गंगोली पहुंची. वहां भी पहुंचकर पीड़िता को जान मारने की धमकी दी और गंगोली निवासी ठिठर झा को भी धमकाया. पीड़िता ने बोरिया पंचायत के सरपंच के यहां आवेदन देकर अपने जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई.

सरपंच से गुहार लगाती पीड़िता.

पीड़िता ने आवेदन में कहा है कि मेरे पिताजी का देहांत राजस्थान में एक निजी कंपनी में काम करने के दौरान एक्सीडेंट होने से हो गया. मेरी मां मुझे टुन्ना सिंह नाम के अधेड़ से 2 लाख रुपये लेकर मुझे बेच दिया है. उसने मेरे साथ शादी कर ली. मेरे पति का उम्र 40 वर्ष है और मेरा 13 वर्ष है.

मैं वहां नहीं रहना चाहती हूं, इसलिए वहां से भाग निकली. इसकी वजह से मेरी मां एवं मेरे ससुराल वालों ने मुझे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं. गांव के लोगों ने हमें संरक्षण दिया है, लेकिन वे लोग संरक्षण देनेवालों को भी धमकी दे रहे हैं.

उधर सरपंच गणेश नारायण सिंह ने बताया कि यह घटना बहुत ही निंदनीय है. हम इसकी घोर निंदा करते हैं और समाज के लोग नाबालिग छात्रा की सुरक्षा में खड़े हैं. हम अग्रेतर कार्रवाई हेतु आवेदन को अग्रसारित कर दिया है, परंतु अभी तक किसी भी तरह की सरकारी महकमे की ओर से कार्रवाई नहीं की गई है.

वहीं बोरिया पंचायत के मुखिया ने प्रशासनिक पदाधिकारी की उदासीनता पर खेद प्रकट करते हुए दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है. वहीं थाना अध्यक्ष संजीत कुमार ने इस मामले की अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि यह मामला चाइल्ड लाइन एवं महिला हेल्पलाइन का है.

इसे भी पढ़ें : Big Success : यूपीएससी में बिहारी प्रतिभाओं की बल्ले-बल्ले 
UPSC सिविल सर्विसेज का रिजल्ट घोषित, बिहार से 31 ने मारी बाजी 
Exclusive : भाजपा नेता के बेटे की ‘फर्जी फैक्‍ट्री’ से निकला है इंटर आर्ट्स का टॉपर गणेश