PM से दो बार मिले थे NDTV के मालिक प्रणय रॉय, हुई थी पैचअप की कोशिश !

लाइव सिटीज डेस्कः NDTV के संस्थापक प्रणय रॉय के घर एक निजी बैंक को नुकसान पहुंचाने के आरोप में CBI आ धमकी थी. छापेमारी हुई थी. मामला कथित तौर पर ICICI बैंक से 48 करोड़ के कर्ज के तौर पर सामने आया था. अब एक और खुलासा हुआ है. चौकाने वाला. एक रिपोर्ट में ऐसा खुलासा हुआ है. रिपोर्ट में दावा किया गया है. दावा प्रणय रॉय और पीएम नरेंद्र मोदी की मीटिंग का. बात कहीं आगे न बढ़े इससे पहले मामले को पैच-अप करने की कोशिश की गई थी. एक अंग्रेजी न्यूज पॉर्टल के हवाले के खबर है.

रिपोर्ट के मुताबिक जब मोदी ने अक्टूबर 2014 में स्वच्छ भारत मिशन की घोषणा की, प्रणय रॉय और एनडीटीवी में शीर्ष प्रबंधन ने इसे मोदी तक पहुंचने का एक अवसर के रूप में देखा. एक वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री भी इस विचार का हिस्सा थे. उन्होंने 2014 के अंत में मोदी और प्रणय रॉय के साथ एक-एक बैठक की. तब तक प्रवर्तन निदेशालय (ED) विदेशी मुद्रा प्रबंध अधिनियम (फेमा) के उल्लंघन के लिए NDTV को 2030 करोड़ रुपये का नोटिस मारने के रास्ते पर थी.

मुलाकात के बाद अगले दिन प्रणय रॉय ने कहा कि पीएम मोदी के साथ मिलकर खुशी हुई. प्रणय रॉय ने प्रधान मंत्री के साथ मीटिंग वाली बाद को न्यूज़रूम में घोषित किया. NDTV के वरिष्ठ स्टाफ (जो गुमनाम रहना चाहते हैं) याद करते हैं कि प्रणय रॉय ने मोदी की प्रशंसा की. मोदी स्वच्छ भारत को लोकप्रिय बनाने की एनडीटीवी योजना पर बहुत विनम्र और खुश थे. एनडीटीवी ने स्वच्छ भारत के लिए प्रायोजक के रूप में डिटोल को शामिल किया.

प्रणय ने यह भी कहा कि मोदी ने गुजरात दंगों के एनटीडीवी कवरेज से परेशान होने का कोई संकेत नहीं दिखाया. उन्होंने आगे कहा कि प्रधान मंत्री ने सुझाव दिया था कि रॉय को कच्छ के रण में छुट्टी जाना चाहिए. हफ्ते के भीतर प्रणय रॉय और राधिका कच्छ के रण में छुट्टी के लिए रवाना हो गए. प्रधान मंत्री और प्रणय रॉय ने एनडीटीवी के स्वच्छ भारत कार्यक्रम के बारे में ट्वीट किया. इस बीच ईडी पर दबाव बढ़ता जा रहा था.

2015 की शुरूआत में एक और मीटिंग सेट हुई. कैबिनेट मंत्री के माध्यम से मोदी के था प्रणय रॉय की बैठक हुई. बैठक में प्रणय रॉय ने नरेंद्र मोदी को कच्छ के रण में अद्भुत छुट्टियों का सुझाव देने के लिए आभार व्यक्त किया. लेकिन प्रणय रॉय की खुशी समाप्त हो गई, जब राजस्व सचिव शक्ति कांत दास को बदल दिया गया और ईडी ने 2030 करोड़ रूपए के लिए फेमा नोटिस थमा दिया.

मालूम हो कि देश के जाने-माने पत्रकार प्रणय रॉय और एनडीटीवी पर सीबीआई के छापे के खिलाफ दिल्ली के प्रेस क्लब में शुक्रवार (9जून) को देश के नामी गिरामी संपादक-पत्रकार इकट्ठा हुए और केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला बोला.

यह भी पढ़ें-

NDTV के मालिक प्रणय रॉय के घर CBI की रेड, पत्नी राधिका रॉय पर भी केस दर्ज
लालू बोले- दलितों के घर नहीं, साथ खाना खाएं भाजपाई, सब पॉलिटिकल ड्रामा है