महागठबंधन में महाभारत : सोनिया गांधी से आज मिलेंगे नीतीश, कल तेजस्वी ने की थी भेंट

लाइव सिटीज डेस्क : डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को लेकर महागठबंधन में मचे घमासान का आज मंगलवार को 19वां दिन है. 7 जुलाई को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के आवास समेत 12 ठिकानों पर सीबीआई ने एक साथ छापेमारी की थी. तब से महागठबंधन के घटक दलों के बीच बयानों का दौर लगातार चल रहा है. बिहार में सियासत तेज है. इसे लेकर महागठबंधन के दो बड़े घटक दल राजद और जदयू अब कांग्रेस से लगातार संपर्क में हैं.

दोनों दलों के नेताओं को कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बाद अब राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनकी उम्मीद बंधी हुई है. इसी कड़ी में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने बीती शाम सोनिया गांधी से मुलाकात की. अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज सोनिया गांधी से मिलेंगे. इसे लेकर पॉलिटिकल कॉरिडोर में हलचल मचा हुआ है. खास बात कि इस मुलाकात पर हर किसी की नजर लगी हुई है.

दरअसल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार के महागठबंधन में मचे बवाल को लेकर अपना मुंह अब तक नहीं खोले हैं. जदयू के प्रवक्ता लगातार अपने बयानों में नीतीश कुमार के जीरो टॉलरेंस की दुहाई दे रहे हैं. वहीं जदयू के वरीय नेता व राज्यसभा सांसद शरद यादव लगातार बोले जा रहे हैं और वो भी राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के पक्ष में. इससे जदयू के कई नेताओं को शरद यादव का बयान नागवार गुजर रहा है.

इधर ताजा खबर में मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दिल्ली में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे. बताया जा रहा है कि महागठबंधन के मुद्दे पर ही उनसे बात होगी. बता दें कि नीतीश कुमार नये राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के शपथग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए दिल्ली गये हुए हैं. इसी दौरान वे सोनिया गांधी से भी मिलेंगे. गौरतलब है कि शनिवार को वे राहुल गांधी से भेंट की थी. इसके बाद नीतीश कुमार की मुलाकात शरद यादव और केसी त्यागी से हुई थी.

गौरतलब है कि सोमवार की देर शाम बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात की. सूत्रों की मानें तो यह मुलाकात सोनिया गांधी के आवास पर हुई. इस दौरान दोनों के बीच बिहार की सियासत पर लंबी बात हुई. हालांकि दोनों नेताओं के बीच क्या बात हुई, इस पर कोई अधिकृत रूप से बोलने को तैयार नहीं है. बहरहाल पॉलिटिकल कॉरिडोर में इस मुलाकात को लेकर फुसफसाहट तेज है.

इसे भी पढ़ें : जदयू का पलटवारः राजनीतिक बेरोजगारी और मानसिक पीड़ा से गुजर रहे हैं रघुवंश बाबू