पप्पू यादव बोले, बेनामी संपत्ति की जांच क्यों नहीं करवाते नीतीश कुमार

पटना (नियाज़ आलम) :  बेनामी संपत्ति के आरोपों को लेकर आमने -सामने हुए राजद और भाजपा समेत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जन अधिकार पार्टी (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सासंद पप्पू यादव ने जमकर निशाना साधा है. पप्पू यादव ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आखिर बेनामी संपत्ति की जांच क्यों नहीं करवा रहे हैं?

पप्पू यादव ने कहा है कि केन्द्र सरकार के पास प्रवर्तन निदेशालय है लेकिन राज्य सरकार के पास विजिलेंस तो है. मुख्यमंत्री विजिलेंस से इसकी जांच क्यों नहीं करवा रहे हैं. बेनामी संपत्ति पर उनकी मौन स्वीकृति का क्या कारण है. कहीं इसमें कोई आंतरिक समझौता तो नहीं है. पप्पू यादव ने कहा कि उन्होंने इसकी जांच के लिए बिहार सरकार को कई बार लिखा है.

उन्होंने कहा कि कल तक जिनकी साइकिल पर चलने की स्थिति नहीं थी, एक कट्ठा जमीन नहीं थी, आज वह करोड़पति, अरबपति हैं. पप्पू यादव ने कई नाम गिनाए और कहा कि इनमें चाहे अनंत सिंह हों, धूमल सिंह हो, बिन्दी यादव, सुरेन्द्र यादव, राजबल्लभ, सूरजभान, रनबीर यादव, फातमी, पांडेय, अजय सिंह, रामा सिंह हो, कौन नहीं जानता कि ये लोग कौन हैं.

वह सुशील मोदी से भी पूछना चाहते हैं कि आखिर वह केवल लालू यादव और उनके परिवार को ही टार्गेट क्यों बना रहे हैं. मोदी अपनी पार्टी के नेता को भी क्यों नहीं देखते. पप्पू यादव ने कहा कि मोदी केवल मोहरा हैं. उन्होंने सवाल किया कि आखिर मोदी के पास इतने दस्तावेज कहां से आ रहे हैं. पप्पू यादव ने सीधे तौर पर इसके लिए ललन सिंह और शिवानंद तिवारी पर आरोप लगाया.

नीतीश सरकार पर हमला करते हुए कहा कि 2008 में भी ललन सिंह और शिवानंद तिवारी के माद्यम से लालू को निशाना बनाया गया था. जाप (लो) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि वह मांग करते हैं कि भ्रष्टाचार के संबंध में संविधान में संसोधन होना चाहिए. भ्रष्टाचारियों को आतंकवादियों और बलात्कारियों से भी खतरनाक बताने वाले पप्पू यादव ने एक बार फिर भ्रष्टाचार के मामले को तीन महीने में निपटा कर दोषियों को फांसी की सज़ा देने की मांग दोहराई.

देश बचाओ नहीं, लूट का माल खपाओ रैली है ये…
राजद की 27 अगस्त की प्रस्तावित रैली का पप्पू यादव ने बहिष्कार किया है. उन्होंने कहा है कि यह देश बचाओ नहीं परिवार बचाओ और लूट का माल खपाओ रेली है. उन्होंने कहा कि इस रैली में उनके शामिल होने को सवाल ही पैदा नहीं होता. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, बसपा सुप्रीमो मायावती व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी रैली में शामिल नहीं होने की नसीहत दी है.
आज पिछड़ा कहलाना भी मज़ाक बन गया है…
पप्पू यादव ने लालू प्रसाद पर यादवों और पिछड़ों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि अपने परिवार के लिए लालू प्रसाद ने पूरे पिछड़ी जाति का सर्वनाष कर दिया. उन्होंने कहा कि इसे देखते हुए कभी- कभी लगता है कि मैं खुद अपने नाम के साथ यादव सरनेम लगाउं या नहीं. पिछड़ा कहलाना देश में मज़ाक बन गया है.

यह भी पढ़ें- लालू के बचाव में आगे आये शत्रुघ्‍न सिन्‍हा, सुमो बोले – गद्दारों को घर से निकालो