नीतीश सरकार पर नरेंद्र मोदी की पैनी नजर, आज केंद्रीय मंत्रियों-सांसदों की बुलाई स्पेशल बैठक

लाइव सिटीज डेस्कः बिहार की नई एनडीए सरकार पर अब पीएम नरेंद्र मोदी खुद पैनी नजर बनाए हुए हैं. इसको लेकर आज बुधवार को पीएम मोदी ने बिहार के केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों की बैठक बुलाई है. बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के सांसदों से ब्रेकफास्‍ट पर मुलाकात करेंगे. बिहार में एनडीए की सरकार बनने की वजह से ये मुलाकात और भी दिलचस्‍प हो गई है. मालूम हो कि आज ही पीएम मोदी ने केंद्रीय कैबिनेट की अहम बैठक भी बुलाई है. बैठक शाम छह बजे होगी.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 जुलाई को उत्तर प्रदेश के सभी सांसदों को नाश्ते पर बुलाया था. माना जा रहा है कि आज की बैठक में प्रधानमंत्री बिहार के सभी सांसदों और केंद्रीय मंत्रियों से औपचारिक बातचीत करेंगे. कामकाज का फ़ीडबैक लेंगे. सभी सांसदों से उनके क्षेत्र में केंद्र सरकार की योजनाएं जनता तक कितनी पहुंच रही हैं और उनमें सुधार की क्या जरूरते हैं, इस पर भी सुझाव मांगे जाएंगे.

मालूम हो कि बीते सप्‍ताह ही महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद बीजेपी के समर्थन से नीतीश कुमार ने बिहार में दोबारा से सरकार बनाई. इसके बाद सीएम नीतीश कुमार ने बीते 29 जुलाई को 27 मंत्रियों के साथ अपने मंत्रिमंडल का गठन किया, जिसमें जदयू से 14, भाजपा से 12 और एक लोजपा से हैं. नीतीश ने इसके एक दिन पहले ही विधानसभा में विश्वासमत हासिल किया था. इसके बाद से ही राज्‍य में राजद और जेडीयू-बीजेपी के बीच राजनीतिक रस्‍साकशी चल रही है. लालू-नीतीश के साथ ही पीएम मोदी पर भी खुलकर जुबानी हमले तेज हैं.

गौरतलब हो कि बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद से ही केंद्रीय मंत्री और सांसद एक्टिव मोड में दिख रहे हैं. मंगलवार को केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात की थी. बिहार के विकास के लिए हर संभव मदद मांगी थी. ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि इन सब कवायदों का फायदा बिहार को मिलता है या नहीं.

यह भी पढ़ें-

BREAKING : मुगलसराय-गया रेल रूट पर मालगाड़ी डिरेल, 14 डिब्बे पटरी से उतरे
अब Paytm ला रहा है मैसेजिंग एप, Whatsapp को देगा कड़ी टक्कर
लालू बोले – नीतीश करते हैं कुर्मी रैली, हमने कभी यादव रैली नहीं की
असर IG के आदेश का, 11 जिलों में 933 गिरफ्तार
एडमिशन के नाम पर बड़ी ठगी, करोड़ जा सकता है आंकड़ा
सचमुच आरा-छपरा हिल गया, मुंगेर-मोतिहारी का संदेश भी कड़ा है