कौन है इस पोस्टर के पीछे, लिखा है- सुशील मोदी के इशारे पर चल रहे हैं नीतीश के प्रवक्ता

लाइव सिटीज डेस्कः महागठबंधन में अभी क्या चल रहा है इसका अंदाजा लगाना सबसे लिए मुश्किल साबित हो रहा है. हर रोज कुछ ऐसा होता है जो ‘सब ठीक है’ की बात को खारिज कर देता है. फिलहाल विवाद शुरू हुआ है राजधानी पटना में लगे एक विवादित पोस्टर से. पोस्टर को बिहार विधान मंडल के सामने लगाया गया है.

पोस्टर में सीधे-सीधे सीएम नीतीश कुमार के प्रवक्ताओं को टारगेट किया गया है. साथ ही बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी को भी निशाने पर लिया गया है. पोस्टर में साफ-साफ लिखा है कि जदयू के प्रवक्ता खूब बयानबाजी कर रहे हैं और वो भी विरोधियों के इशारे पर. पोस्टर में आप साफ-साफ देख सकते हैं. लिखा है कि सुशील मोदी के कहने पर जदयू के प्रवक्ता बयानबाजी कर रहे हैं.

ध्यान से देखिए. पोस्टर का रंग हरा है. इसमें जदयू के तीन प्रवक्ता और एक जदयू विधायक की तस्वीर लगी है. जिनमें सबसे पहली तस्वीर है अजय आलोक की, दूसरे नंबर हैं जदयू प्रवक्ता संजय सिंह, तीसरे नंबर पर जदयू विधायक श्याम रजक और चौथे नंबर हैं पार्टी के प्रवक्ता नीरज कुमार.

जिसने भी यह पोस्टर लगाया है उसने यह बताने की कोशिश की है कि जदयू के प्रवक्ता अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं. सीएम नीतीश कुमार के मना करने के बाद भी ये लोग बाज नहीं आ रहे. साथ ही यह भी लिखा है बीजेपी नेता सुशील मोदी के इशारे पर ये सब कुछ हो रहा है. ऐसे में इस वायरल पोस्टर से सियासत गरमा गई है. माना जा रहा है कि जदयू प्रवक्ताओं के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को लेकर बयानबाजियों की वजह से यह पोस्टर लगाया गया है.

गौरतलब हो कि पिछले कुछ दिनों से महागठबंधन में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव को लेकर खूब बयानबाजी हो रही है. जदयू प्रवक्ता अजय आलोक पहले भी तेजस्वी यादव को लेकर की बयान दे चुके हैं. उन्होंने कहा था कि तेजस्वी यादव की चुप्पी की वजह से युवाओं में गलत संदेश जा रहा है. उधर नीरज कुमार ने भी तेजस्वी पर निशाना साधते हुए कहा था कि तेजस्वी को जवाब देना होगा. ऐसे में इस पोस्टर के पीछे कौन है यह एक बड़ा सवाल बना हुआ है.

यह भी पढ़ें-

बड़ा सवाल, क्या असेंबली में पहले की तरह अगल-बगल में बैठेंगे नीतीश-तेजस्वी
नीतीश कुमार दिल्ली में राहुल-सोनिया से मिलेंगे, नरेंद्र मोदी से भी होगी भेंट