प्रभुनाथ सिंह धोती-कुर्ता की जगह अब पहनेंगे कुर्ता-पायजामा

prabhunath12
राजद नेता व पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज डेस्क : आवास बदलते ही सजाफ्ता राजद नेता व पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह का लिबास भी बदल गया है. सत्ता के गलियारे में लकदक धोती, कुर्ता व ​बंडी से खास पहचान रखने वाले प्रभुनाथ सिंह का अब ड्रेस भी बदल गया है. वे अब कैदी वाले ड्रेस में नजर आयेंगे. उन्हें पहनने के लिए खाकी कुर्ता और पायजामा दिया गया है.

उधर विधायक अशोक सिंह की हत्या के मामले में सजाफ्ता पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह से झारखंड के हजारीबाग जेल में मिलने के लिए लोगों का तांता लगा हुआ है. सूत्रों की मानें तो हालांकि उन्होंने अब तक किसी से मुलाकात नहीं की है. उनका नया ठिकाना अब हजारीबाग जेल हो गया है. मालूम हो कि पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को विधायक हत्याकांड में उम्रकैद की सजा हुई है. 23 मई को उन्हें हजारीबाग कोर्ट ने यह सजा सुनाई है. बता दें कि यह फैसला 22 वर्षों के बाद आया है.

prabhunath12

गौरतलब है कि 3 जुलाई 1995 में मशरख के विधायक अशोक सिंह की हत्या उनके ही सरकारी आवास पर बम मार कर दी गयी थी. तत्कालिक जनता दल विधायक अशोक सिंह की मौके पर ही मौत हो गयी थी. इस घटना में अनिल कुमार सिंह की भी मौत हो गयी थी. इस मामले में अशोक सिंह की पत्नी चांदनी सिंह ने प्रभुनाथ सिंह के खिलाफ केस दर्ज कराया था. इसी की सुनवाई के बाद आरोपी प्रभुनाथ सिंह समेत उनके भाई दीनानाथ सिंह व भतीजा रितेश सिंह को भी उम्रकैद की सजा सुनायी गयी है. तीनों को हजारीबाग के जेपी जेल में रखा गया है.

इसे भी पढ़ें : ये फोटो है वायरल, पॉलिटिकल कंट्रास्‍ट को तेज समझाती है, आप भी समझ लें 
प्रभुनाथ सिंह को मर्डर केस में उम्रकैद की सजा

प्रभुनाथ सिंह के कैदियों की सामान्य श्रेणी में आने के बाद हजारीबाग जेल में उन्हें पहनने के लिए खाकी कुर्ता व पायजामा दिया गया है. एक समय था जब प्रभुनाथ सिंह की धोती, कुर्ता और बंडी ही पहचान थी. सूत्रों की मानें तो पहले ही दिन उन्हें जेल वाला ड्रेस मुहैया करा दिया गया. बताया जाता है कि दिन भर वे अखबारों में ही डूबे रह रहे हैं. पहला दिन उन्हें विशेष आग्रह पर शहर में आनेवाले तमाम अखबार उन्हें दिया गया.

इसे भी पढ़ें : प्रभुनाथ की उम्रकैद पर बोले सुमो : अगर बिहार होता तो अब भी सजा नहीं होती 
प्रभुनाथ की उम्रकैद पर बोले सुमो : अगर बिहार होता तो अब भी सजा नहीं होती

सूत्रों की मानें तो प्रभुनाथ सिंह ने जेल प्रशासन से पढ़ने के लिए महापुरुषों से सबंधित किताबें उपलब्ध कराने का आग्रह किया है. उन्होंने गीता समेत अन्य किताबों की भी डिमांड की है. सूत्रों की मानें तो जेल में वे अखबारों व किताबों को पढ़कर अपना समय काटना चाहते हैं.