रिटायर हो गए करोड़ों छात्रों को इंजीनियर बनाने वाले प्रोफेसर एचसी वर्मा

लाइव सिटीज डेस्कः इन पर बिहार को नाज़ है. इन्होंने करोड़ों को इंजीनियर बनाया. इनकी किताबें इंटर के उन स्टूडेंट्स के लिए आज भी संजीवनी बुटी का काम करती हैं, जो इंजीनियर बनना चाहते हैं. जी हां सन 2000 के आस-पास हिंदुस्तान में दो ही भगवान हुआ करते थे. एक सचिन तेंदुलकर और दूसरे ये प्रोफेसर. अब तक पता तो चल ही गया होगा हम किनकी चर्चा कर रहे हैं. ये बिहार के दरभंगा जिले के रहने वाले हैं. नाम है एचसी वर्मा. देश में जानी-मानी हस्ती हैं.

इक्कीसवीं शताब्दी के आने से ठीक पहले और आने के बाद दसवीं पास किये हुए बच्चे एक किताब की तरफ बड़े ही सम्मान और प्यार से जूझते थे. ये किताब दो भागों में आती थी. एक नीली और एक हरी. दसवीं की किताबों से अलग बड़ी, चौकोर और बेहद खूबसूरत प्रिटिंग. पटना के भारती भवन से छपी ये किताब हर बच्चे के हाथ में नहीं देखी जाती थी. जो इसे अपने हाथ में लेकर चलता, उसे कई सवालों के जवाब देने पड़ते थे. साथियों की नफरत का शिकार होना पड़ता था.

इस किताब का नाम था Concept Of Physics. लिखने वाले का नाम था एचसी वर्मा. फिजिक्स की ये किताब घरों में गीता प्रेस की किताबों को टक्कर देती थी. हर बच्चा इसे पढ़ना चाहता था, इसके सवाल हल करना चाहता था. पर ये आसान नहीं था. बेहद शानदार तरीके से लिखी ये किताब कॉन्सेप्ट्स को सुलझाती थी.

ऐसा कहा जाता था कि जिसने भी इस किताब को दो बार बना लिया, वो आईआईटी एंट्रेंस के फिजिक्स को तो निकाल ही लेगा. उस समय आईआईटी का एंट्रेस बहुत कठिन होता था. मेरे खुद के मन में हमेशा ये टीस रही कि मैं आईआईटी नहीं निकाल पाया. वहां पढ़ने से ज्यादा इस एंट्रेंस को निकालने का मन था. अब वहीं एचसी वर्मा रिटायर हो गए हैं. अब आईआईटी कानपुर में नहीं पढ़ाएंगे.

कहा जाता था कि वर्मा फिजिक्स में इतने खोये रहते थे कि लुंगी में ही क्लास लेने चले जाते हैं. पढ़ाते-पढ़ाते सिगरेट पीने लगते थे. उन्होंने इरोडोव की किताब को तो मजाक बना दिया था. उन्होंने दुनिया की सारी फिजिक्स की किताबें पढ़ डालीं. चर्चा तो यह भी थी कि नासा वाले उनको किडनैप करने आये थे, लेकिन ये वहां भी फिजिक्स का दिमाग लगाकर बच गये. खास तौर से न्यूटन के लॉ वाले चैप्टर में इनका लटकते बंदर का प्रश्न और पहले चैप्टर में उड़ती मक्खी का प्रश्न ये साबित तो करते ही थे कि इनका दिमाग कंप्यूटर से कम नहीं था.

एचसी वर्मा के रिटायरमेंट वाला ट्वीट खूब वायरल हो रहा है. उनके इस ट्वीट के रीट्वीट के लिए रेला लगा है लोगों का. उनके सम्मान में खूब कसीदे पढ़े जा रहे हैं. लोग यह सुनकर पगला गए हैं कि अब एचसी वर्मा और नहीं पढ़ाएंगे. आप भी देखिए उनके स्टूडेंट्स और उनकोे गुरू मानने वालों ने क्या-क्या लिखा है ट्विटर पर-

यह भी पढ़ें-

अपने बिहार की बेटी बनी थी देश की पहली महिला डॉक्टर, समाज से लड़कर पढ़ी थी डॉक्टरी
तीखी मिर्ची ने घोल दी है मोतिहारी के किसानों की जिंदगी में मिठास