GST Effect : रेल यात्रियों की जेबें होंगी ढीली, किराये के साथ ही खानपान भी होंगे महंगे

प्रतीकात्मक फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : GST अभी देश में छाया हुआ है. महंगा व सस्ता की गणित में लोग उलझे हुए हैं. व्यवसायी इसके फायदे और नुकसान को गिना रहे हैं. लेकिन इसका असर देश की लाइफ लाइन पर भी पड़ने जा रहा है. इसके लिए आप एक जुलाई से अपनी जेबें ढीली करने के लिए तैयार रहें.

जी हां, बात कर रहे हैं. देश की लाइफ लाइन रेलवे की. GST का असर इसके किराये पर पड़ने जा रहा है. टिकट महंगे हो जायेंगे. बता दें कि GST एक जुलाई से लागू होगा. इसके लागू होने के साथ ही रेल किराया तो महंगा होगा ही, उन रेल यात्रियों से भी GST वसूला जायेगा, जिन्होंने चार माह पहले टिकट की बुकिंग करायी है. रेलवे सूत्रों की मानें तो GST का असर ट्रेनों में खानपान व्यवस्था पर भी पड़ेगा.

फाइल फोटो

सूत्रों की मानें तो रेलवे का फ्रेट विभाग GST को लेकर काफी उलझन में है. वह इसे एक जुलाई से लागू करने में खुद को असमर्थ महसूस कर रहा है. लेकिन, इतना तय है कि इस टैक्स के लग जाने पर एसी क्लास के यात्रियों की जेब पर इसका भार पड़ेगा. दशमलव पांच परसेंट (.5) के इजाफे से रेलवे को तो कोई खास लाभ नहीं होने वाला, क्योंकि वह कुल यात्रा किराये का 4.5 परसेंट दे ही रहा है. जीएसटी लागू होने से रेलवे को कुल 5 परसेंट देना पड़ेगा. लेकिन इसके एवज में रेलवे अपने यात्रियों से जीएसटी वसूलेगा.

रेलवे सूत्रों की मानें तो यदि GST एक जुलाई से लागू हो गया तो उस दिन से एसी में यात्रा करने के लिए बेस फेयर का आधा परसेंट अधिक देना होगा. फिलहाल सर्विस टैक्स में यात्रियों को 14.5 परसेंट देना पड़ रहा है. इससे टैक्स बढ़ कर 15 परसेंट हो जायेगा. वहीं रेलवे यदि सेफ्टी टैक्स के नाम पर प्रस्तावित आधा परसेंट टैक्स को लागू कर देगा तो यात्रियों को साढ़े 15 परसेंट टैक्स देना होगा. बताया जा रहा है कि GST के कारण ट्रेनों व स्टेशनों पर खानपान पर भी असर पड़ेगा. वे भी महंगे होंगे. हां, कितना महंगा होगा, इसका अभी कैलकुलेश किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : GST : खादी धागा, गांधी टोपी, राष्ट्रीय झंडा पर कोई कर नहीं, पूजा सामग्री को भी टैक्स से छूट