सीबीआई रेड से डरने वाला नहीं लालू परिवार, विरोधियों को दबाने का नया तरीका अपना रहा है केंद्र

लाइव सिटीज डेस्क : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के 12 ठिकानों पर छापेमारी के बाद बिहार के पॉलिटिकल कॉरिडोर में हलचल मच गयी है. राजद ने इस छापेमारी पर कड़ी प्रतिक्रिया जतायी है. राजद के पार्टी प्रवक्ताओं ने कहा है कि इससे लालू प्रसाद व उनका ​परिवार डरने वाला नहीं है. लेकिन विरोधियों को दबाने की केंद्र की यह परिपाटी ठीक नहीं है.
राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार का विरोधियों को साधने का यह नया तरीका है. उन्होंने कहा कि विरोधियों को दबाने के लिए सीबीआई कभी ​तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, दिल्ली में छापेमारी कर रही है. इसी कड़ी में विरोधियों की आवाज दबाने के लिए लालू प्रसाद के ठिकानों पर यह छापेमारी की गयी है.
 
उधर आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा है कि लालू प्रसाद को दबाने के लिए यह केंद्र सरकार की साजिश है. एक साजिश के तहत ये सीबीआई की कार्रवाई करवाई जा रही है. उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद ने जब ‘देश बचाओ भाजपा हटाओ’ की बात कही तो केंद्र सरकार बौखला गई है. जिसके बाद सीबीआई का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है.
मालूम हो कि आरजेडी चीफ लालू प्रसाद के 12 ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी हुई है. बताया जा रहा है कि यह छापेमारी दिल्ली, पटना, राची, पुरी और गुरुग्राम स्थित ठिकानों पर की गई है. सीबीआई ने 2006 में रेलमंत्री रहे लालू प्रसाद यादव, पत्नी राबड़ी देवी, उनके बेटों के साथ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, इन सभी लोगों पर रांची और पुरी में रेलमंत्रालय द्वारा होटल बनाने के लिए जारी टेंडर में धांधली का आरोप है. उस दौरान लालू यादव रेल मंत्री थे.
यह भी पढ़ें-
लालू के ठिकानों पर CBI रेड से बिहार में अलर्ट, सभी जिलों के एसपी को सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश
CBI रेड पर राजगीर से नीतीश कर हैं मॉनिटरिंग, सभी अधिकारियों को किया तलब, मुख्य सचिव रवाना