अमेरिका के बाद अब रूस ने माना इस बिहारी का लोहा, आनंद से मैथ सीखने पहुंचे रूसी स्टूडेंट

पटना (अजीत) : अमेरिका के बाद अब रूस ने भी पटना के सुपर 30 वाले आनंद का लोहा माना है. पूरी दुनिया में आनंद कुमार को पहचान मिल रही है. ब्रांड बन चुके हैं. जी हां… रूस के छात्र पटना पहुंचे हैं. आनंद से मैथ के ट्रिक सीखने. सुपर 30 के संस्थापक और गणितज्ञ आनंद कुमार के आवास पर मॉस्को यूनिवर्सिटी रूस की महिला प्रोफेसर ओल्गा अरापोरोव अपने चार रूसी छात्राओं के साथ भारत की शिक्षा पद्धति का अवलोकन करने बिहार की राजधानी पटना पहुंची हैं.

रूसी छात्रों ने आनंद कुमार से उनके आवास पर मुलाकात की. छात्र उनके क्लास रूम में भी पहुंचे जहां उन्होंने उनसे मैथ के ट्रिक सीखे. अपने पांच दिवसीय दौरे पर बिहार पहुंची प्रोफेसर ओल्गा ने बताया कि आनंद कुमार का आज विश्वभर में नाम है. उन्होंने ने आईआईटी के क्षेत्र में क्रांति लाई है.

प्रोेफेसर ओल्गा ने बताया कि व्यक्तिगत तौर से मैं आनंद से प्रभावित होकर यहां पहुंची हूं. भारत की शिक्षा पद्धति का अवलोकन करना चाहती हूं. उन्होंने बताया कि भारतीयों के पढ़ाई का तरीका देखकर हमलोग काफी खुश हैं.

उन्होंने कहा कि भारत और खासकर बिहार के लोग मेधावी होते हैं. दुनिया के हर क्षेत्र में अपनी छाप छोडते हैं. यहां की शिक्षा पद्धति अन्य देशों के मुकाबले कैसी है, अध्ययन कर अपने देश को रिपोर्ट सौपना चाहती हूं.

उनके साथ आयी रूस की छात्राओं ने सुपर 30 के बच्चों और मीडिया के अनुरोध पर हिंदी फ़िल्म अभिनेता शाहरुख खान का एक हिंदी गाना गाकर अचम्भित कर दिया.

उनके साथ गाइड और ट्रांसलेटर के रूप में साथ आये रामानुज कुशवाहा ने बताया कि उन्होंने मॉस्को में ही रूसी भाषा सीखी. वे मूल रूप से भारतीय हैं. भारत के बच्चों को उन्होंने बताया कि रूस में खेल एक अहम विषय के रूप में है. जो सबके लिए जरूरी और अनिवार्य है.

मालूम हो कि इससे पहले अमेरिका में भारतवंशी समुदाय ने सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार को सम्मानित किया था. उन्हें गरीब बच्चों को आईआईटी की प्रतियोगिता में सफलता दिलाने के प्रयासों के लिए यह सम्मान मिला था.

यह भी पढ़ें-

रिटायर हो गए करोड़ों छात्रों को इंजीनियर बनाने वाले प्रोफेसर एचसी वर्मा
बिहार में सिर्फ राजनीति ही नहीं होती, यहां के हौसले भी बुलंद हैं, खूब पैदा हो रहा है मोती
सुपर 30 के आनंद अब शुरू करेंगे ऑनलाइन कोचिंग