देखें Live तस्वीरें : कूदते-फांदते विमान से बाहर निकले लोग, अभी कोई फ्लाइट नहीं भरेगी उड़ान

बीते दिनों पटना एयरपोर्ट की ऐसी थी स्थिति

पटना : शाबासी दीजिये पटना से दिल्ली जा रही इंडिगो की फ्लाइट 6E508 के पायलट को. वरना, आज शुक्रवार 30 जून को पटना में बड़ा विमान हादसा हो गया होता. इंडिगो की फ्लाइट के यात्री चंद मिनटों की भयावह याद को भूल नहीं पा रहे हैं. जान बची है, इसलिए भगवान-अल्लाह-गॉड को थैंक्स बोल रहे हैं. खबर लिखे जाने तक पटना एयरपोर्ट से मिल रही सूचनाओं के मुताबिक़ आज रात कोई उड़ान संभव नहीं है. सबसे अधिक परेशान वे हैं, जिन्हें आगे जाना था. शिकागो-ओमान जाने वाले यात्रियों की मुसीबत और भी अधिक है. चारा घोटाले के मामले में कोर्ट में पेशी को गए लालू प्रसाद रांची में फंस गए हैं.

इंडिगो ने स्पष्ट किया है कि जब पटना में फ्लाइट लैंड हुई थी, तब कोई तकनीकी खामी नहीं थी. वापसी में जहाज को दिल्ली जाना था. कुल 174 यात्री सवार थे. शाम को नियत समय पर बोर्डिंग कम्पलीट होने के बाद पायलट ने एयरक्राफ्ट को टेकऑफ कराने के लिए रनवे पर स्पीड दे दी थी. बस कुछ ही सेकंड बचे थे, जब इंडिगो की फ्लाइट आसमान में होती. तभी पायलट ने स्मोक महसूस किया. धुआं इंजन की ओर से था. खतरे को तुरंत महसूस कर पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक का इस्तेमाल किया. ब्रेक इतना तगड़ा था कि पूरा एयरक्राफ्ट ही कांप गया. बहुत तेज आवाज हुई. पैसेंजर्स ने मान लिया कि टायर ब्लास्ट कर गया है. सो, पहली सूचना टायर फटने की ही फ़्लैश हुई.

इमरजेंसी ब्रेक लगाने का फैसला पायलट ने इतनी जल्दी में लिया था कि कोई अनाउंसमेंट ही संभव नहीं था. बस किसी तरीके से एयर ट्रैफिक कण्ट्रोल को सिग्नल दे दिया गया था. बगैर किसी अनाउंसमेंट के धड़ाम से एयरक्राफ्ट के रोके जाने से सवार सभी मुसाफिर बहुत तेज हिचकोले खाए. गनीमत थी कि सभी यात्रियों ने सेफ्टी बेल्ट बांध रखा था. फिर भी बहुतों को चोट आई.

एयरक्राफ्ट के ठहरते ही फ्लाइट के क्रू मेंबर्स और एग्जिट गेट पर बैठे सभी यात्री सबसे पहले सारे निकास द्वार खोलने में लगे. इधर पटना एयरपोर्ट के ग्राउंड स्टाफ भी तेजी से आपात व्यवस्थाओं के साथ रनवे पर वहां पहुंचे, जहां एयरक्राफ्ट को रोक दिया गया था. सबसे बड़ा डर आग का था. शुक्रिया, आग की लपटें नहीं उठीं. अब सभी निकास द्वारों से फ्लाइट में सवार यात्री कूद-फांद कर बाहर आने लगे. हड़बड़ी ऐसी थी कि लोग एक-दूसरे पर कूदे जा रहे थे. बस, बाहर आना था. सामान की फ़िक्र कौन करता.

कुछ ही मिनटों में सभी पैसेंजर्स और फ्लाइट के पायलट और क्रू मेंबर्स बाहर आ गए. कइयों को शरीर में चोट लगी है. इंडिगो प्रबंधन इलाज कराने की बात कह रहा है. इस हादसे के बाद पटना एयरपोर्ट को एयर ट्रैफिक कण्ट्रोल ने इमरजेंसी मोड में ले लिया. सभी फ्लाइट्स की लैंडिंग पटना में कैंसिल कर दी गयी. इंडिगो की फ्लाइट को रनवे से हटाया जाना संभव तुरंत नहीं था. पटना में एयरपोर्ट पर एक ही रनवे है, जिसपर फ्लाइट्स बारी-बारी से लैंडिंग और टेकऑफ करते हैं.

इंडिगो के सभी यात्री बाहर तो आ गए, लेकिन अब दूसरा हंगामा शुरू हो गया. शाम के पहर में पटना आने और पटना से जाने को कई फ्लाइट्स हैं. इंडिगो के अलावा एयर इंडिया, जेट एयरवेज व गो एयर की. अब किसी भी फ्लाइट का ऑपरेशन पटना से संभव नहीं था. दूसरी फ्लाइट से दिल्ली जाने को VIP लाउन्ज में केंद्रीय राज्य मंत्री राम कृपाल यादव, भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी और जहानाबाद के सांसद अरुण कुमार भी बैठे थे. उधर शाम 6:40 बजे पटना आनेवाले लालू प्रसाद रांची में फंस गए थे.

पटना एयरपोर्ट प्रबंधन और किसी भी एयरलाइन्स के कर्मचारी यह बताने की स्थिति में नहीं थे कि कोई फ्लाइट उड़ान भी भर सकेगी क्या. बड़ी संख्या में यात्रियों ने हंगामा शुरू कर दिया. इंडिगो ने पैसे की वापसी की व्यवस्था की. जेट एयरवेज के यात्री तो धरना पर ही बैठ गए. इस फ्लाइट में वैसे पैसेंजर्स अधिक थे, जिन्हें आगे कई दूसरे देशों में भी जाना था.

पटना एयरपोर्ट से स्पाइसजेट की सर्विस भी शनिवार, 1 जुलाई से शुरू होनी है. लेकिन आसार ऐसे दिख रहे हैं कि सुबह की कुछ फ्लाइट्स कैंसिल होगी अथवा री-शिड्यूल होगी. दूसरे एयरलाइन्स के सुबह के फ्लाइट्स भी डिस्टर्ब होंगे. कारण यह कि इमरजेंसी ब्रेक के कारण जो टायर फटा है और अन्य तकनीकी खराबियां आयीं हैं, उसे दिल्ली से आनेवाले एक्सपर्ट ही ठीक करेंगे.

कोशिश की जा रही है कि उन्हें वाराणसी व गया के रास्ते सुबह-सुबह पटना बुलाया जाए. बिना उनके आये, रनवे से इंडिगो की दुर्घटनाग्रस्त फ्लाइट को हटा पाना शायद ही संभव हो. वैसे दुर्घटना के कारणों की संभावनाओं को तलाशने वाले लोग बर्ड हिट को भी नहीं नकार रहे हैं, क्योंकि पटना में इसके कारण पहले भी कई हादसे हो चुके हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*